कोरोना

डाॅ.वाणी बरठाकुर ‘विभा’, शिक्षा वाहिनी समाचार पत्र। मुझे विश्व में अब सभी पहचानते मेरे ही डर से सभी मुंह ढककर फिरते मैं छिपी थी चीन के यूहान में अवसर देख निकल आई दुनिया घूमने । सात बहनों से मैं सबसे छोटी हूँ जल, स्थल , आकाश तीनों लोको में घूमती लेकिन घर बचाती प्राणियों की फेफड़ों में । खासी और छींक में बाहर निकल कर नए शिकार तलाशती हूँ । सर्दी खासी जुकाम बुखार और जब साँस लेने में हो तकलीफ जांच कर लेना हो सके मैं हूँ तेरे यहाँ…