पंचायत चुनाव के बाद अब मिशन 2022 में जुटी माया, संगठन में भारी फेरबदल किया

शि.वा.ब्यूरो, लखनऊ। बहुजन समाज पार्टी की राष्ट्रीय अध्यक्ष मायावती ने कहा है कि त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव में विरोधी पार्टियों द्वारा अपार धन बल की अनुचित इस्तेमाल के बावजूद बहुजन समाज पार्टी ने लगभग पूरे प्रदेश में जो रिजल्ट प्रदर्शित किया है, वह अति उत्साहवर्धक है। उन्होंने कहा कि कुछ बड़े जिलों को छोड़कर अधिकांश जिलों खासकर आगरा, मथुरा, मेरठ, बुलंदाशहर, गाजियाबाद, सहारनपुर, मुरादाबाद, हापुड़, शाहजहांपुर, कानपुर देहात, जालौन, बांदा, चित्रकूट, लखीमपुर खीरी, हरदोई, सुल्तानपुर, बलरामपुर, संत कबीर नगर, महाराजगंज, आजमगढ़, मऊ, प्रयागराज, भदोही, मिर्जापुर, चंदौली आदि में बीएसपी का प्रदर्शन…

पश्चिम बंगाल में राजनीतिक कौशल नहीं, एम फैक्टर से मिली ममता को कुर्सी

हवलेश कुमार पटेल, शिक्षा वाहिनी समाचार पत्र। पश्चिम बंगाल में भारतीय जनता पार्टी की पुरजोर कोशिशों के बावजूद ममता दीदी ने आखिर तीसरी पूर्ण बहुमत की सरकार में मुख्यमंत्री पद की शपथ ले ही ली। बंगाल की शेरनी के नाम से प्रख्यात् ममता दीदी की यह जीत केवल उनके राजनीतिक कौशल का नतीजा नहीं है, बल्कि ये केवल आंकडों की बाजीगरी है। तृणमूल कांग्रेस की इस अप्रत्याशित जीत में ट्रिपल एम फैक्टर अधिक प्रभावशाली रहा है। एम फैक्टर यानी मुस्लिम, महिला और मतुआ। एम फैक्टर (ट्रिपल एम) में से मुस्लिम…

ममता बनर्जी की हेट्रिक और हिंसा से कराहता बंगाल

मोहन लाल वर्मा, शिक्षा वाहिनी समाचार पत्र। कोरोना महामारी की भयावह सुनामी में भले ही अस्पतालों में आक्सीजन की कमी के कारण मरीजों की सांसे थम रही हो, मरीजों के परिजन आक्सीजन के लिए दर दर भटक रहे हो, या सरकारें आक्सीजन की किल्लत दूर करने के लिए विदेशी मदद का जुगाड़ कर रही हो, लेकिन बंगाल में ममता बनर्जी की जीत से सरकार विरोधी लोगों को भरपूर आक्सीजन मिल गयी है। आक्सीजन का आनंद ले रहे तथाकथित बुद्धिजीवी और कार्टूनिस्ट सरकार को कटघरे में खड़ा करने की भरपूर कोशिश…

देश की राजनीति की दिशा तय करेंगे पांच राज्यों के चुनाव

डॉ. नीलम महेंद्र, शिक्षा वाहिनी समाचार पत्र। चार राज्यों और केंद्र शासित प्रदेश पुड्डुचेरी में विधानसभा चुनाव होने जा रहे हैं। पुडुचेरी, केरल और तमिलनाडु में 6 अप्रैल को एक ही चरण में चुनाव होंगे, पश्चिम बंगाल में आठ चरणों तो असम में तीन चरणों में चुनावों का आयोजन चुनाव आयोग द्वारा किया गया है। भारत केवल भौगोलिक दृष्टि से एक विशाल देश नहीं है, अपितु सांस्कृतिक विरासत की दृष्टि से भी वो अपार विविधता को अपने भीतर समेटे है। एक ओर खान पान बोली मजहबी एवं धार्मिक मान्यताओं की…

यूँ हीं नहीं कोई राजनीति का चाणक्य बन जाता 

आशुतोष झा, शिक्षा वाहिनी समाचार पत्र। बदलते हुए बंगाल की आहट सुनाई दे रही है कि जनसैलाब बदलाव चाहता है। राजनीतिक गलियारे खूब चकाचौंध है, जबकि भूख, गरीबी ,वेरोजगारी व महगाई चरम पर है। नंदीग्राम का रोड शो काफी रोचक रहा है। तृणमूल और बीजेपी की सीधी लड़ाई प्रायः सभी जगहो पर है। एक तरफ बीजेपी अपने दृढ़ विश्वास से लवरेज होकर दमदार काम का बखान अपने शब्दों में करती है। दूसरी तरफ अपने किये गये कार्यो का  व्यौरा देकर बीजेपी को कोसा जाता है, लेकिन विश्वास की कमी साफ…

बहुजन नायक थे मान्यवर कांसीराम (जयंती 15 मार्च पर विशेष)

शिक्षा वाहिनी समाचार पत्र।     कांशी राम का जन्म 15 मार्च 1934 को ख़्वासपुर (रोपड़) पंजाब में एक रैदासी सिख परिवार में हुआ था। 1958 में बीएससी स्नातक होने के बाद कांशी राम पूना में रक्षा उत्पादन विभाग में सहायक वैज्ञानिक के पद पर नियुक्त हुए। डीआरडीओ पूना में नॉकरी के दौरान बाल्मीकि जाति का जुनूनी अम्बेडकरवादी चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी दीना भाना ने बाबा साहब द्वारा लिखित पुस्तक एनिहिलेशन ऑफ कास्ट (जाति का विनाश) कांसीराम को दी, जिसे कांसीराम ने एक ही रात में तीन बार पढ़ा। बाबा साहब…

घोटालों के बादल और चुनावी हिंसा

डॉ नीलम महेंद्र, शिक्षा वाहिनी समाचार पत्र। पश्चिम बंगाल में चुनावों की औपचारिक घोषणा के साथ ही राजनैतिक पारा भी उफान पर पहुँच गया है। देखा जाए तो चुनाव किसी भी लोकतंत्र की आत्मा होते हैं सैद्धांतिक रूप से तो चुनावों को लोकतंत्र का महापर्व कहा जाता है।और निष्पक्ष चुनाव लोकतंत्र की नींव को मजबूती प्रदान करते हैं, लेकिन जब इन्हीं चुनावों के दौरान हिंसक घटनाएं सामने आती हैं जिनमें लोगों की जान तक दांव पर लग जाती हो तो प्रश्न केवल कानून व्यवस्था पर ही नहीं लगता बल्कि लोकतंत्र…

जन्मदिन पर मायावती ने किया ऐलान-यूपी-उत्तराखंड में सभी सीटों पर प्रत्याशी उतारेगी बसपा

शि.वा.ब्यूरो, लखनऊ। बसपा प्रमुख मायावती आज 15 को अपना 65वां जन्‍मदिन मना रही हैं। मायावती ने अपने जन्मदिन पर बड़ा राजनीतिक ऐलान किया है। मायावती ने कहा कि उनकी पार्टी उत्‍तर प्रदेश और उत्‍तराखंड विधानसभा चुनाव में किसी भी पार्टी के साथ गठजोड़ नहीं करेगी। बसपा अकेले दम पर विधानसभा चुनाव लड़ेगी। इसके अलावा वैक्‍सीनेशन शुरू करने को लेकर केंद्र सरकार की तारीफ की है। मायावती ने कहा किअगर उत्तर प्रदेश में बसपा की सरकार बनी तो वह सभी को मुफ्त में COVID-19 वैक्सीन देगी। बता दें कि 2019 के…

बैलेट से ही होंगे पंचायत चुनाव

शि.वा.ब्यूरो, फर्रुखाबाद। यूपी में पंचायत चुनाव को लेकर बीजेपी ने कमर कस ली है। पार्टी के नेता, विधायक और सांसद जन सम्पर्क को बढ़ाने के क्षेत्र में काम करना शुरू भी कर दिए हैं। पंचायत चुनाव बैलेट पेपर से कराए जाएंगे। इसको लेकर चुनाव आयोग ने तैयारियां शुरू कर दी हैं। चुनाव चिन्ह छपने के बाद जिलों पर मतपत्र भेजे जाने लगे हैं। ब्लॉक कार्यकर्ता से लेकर गांव के वोटर पर बीजेपी की नजर है। मतदाता चाहे गांव का हो या शहर का सभी को जोड़ने के लिए की तैयारी…

प्रजातांत्रिक पार्टी के राष्ट्रीय कानूनी सलाहकार बने केबी सिंह एड़वोकेट

शि.वा.ब्यूरो, नई दिल्ली। जीतने की जिद्द है तो परिस्थितियां हरा नहीं सकती। सुरमुई अँखियों के सपनों को आंधियां डरा नहीं सकती। उम्र थका नही सकती, अपनों की ठोकरें गिरा नहीं सकती। हमें अपने दम पे विश्वास है बाबू, कोई नजर हमें नजरा नहीं सकती। कुछ ऐसी ही तबियत के मालिक केबी सिंह एड़वोकेट को उनकी काबलियत के बल पर प्रजातांत्रिक पार्टी का राष्ट्रीय कानूनी सलाहकार नियुक्त किया गया है। प्रजातांत्रिक पार्टी के राष्ट्रीय कानूनी सलाहकार बने एड़वोकेट केबी सिंह का मानना है कि- तो अपने दम पर भरोसा रखो जो…