दर्द की सज़ा

राजीव डोगरा ‘विमल’, शिक्षा वाहिनी समाचार पत्र। हुआ न दर्द मुझे भी हुआ करता था, जब तुम बेमतलब मुझे तकलीफ देते थे। आए न आंखों में आंसू मेरी आंखों में भी आते थे, जब तुम बिना मेरे कुछ बोले मुझे दर्द दिया करते थे। टूटा न दिल मेरा भी टूट जाता था, जब तुम पास होकर भी अनजान बन निकल जाते थे। हुई न तकलीफ मुझे भी हुआ करती थी, जब तुम औरों के लिए मुझे छोड़ चले जाते थे। भाषा अध्यापक गवर्नमेंट हाई स्कूल ठाकुरद्वारा कांगड़ा हिमाचल प्रदेश

गुरु

प्रीति शर्मा “असीम”, शिक्षा वाहिनी समाचार पत्र। जीवन को , जो उत्कृष्ट बनाता है। मिट्टी को , जो छूकर मूर्तिमान कर जाता है । बाँध क्षितिज रेखाओं में, नये आयाम बनाता हैं । जीवन को, जो उत्कृष्ट बनाता हैं । ज्ञान को, जो विज्ञान तक ले जाता है । विद्या के दीप से , ज्ञान की जोत जलाता है | अंधविश्वास के , समंदर को चीर, नवीन तर्क के , साहिल तक ले जाता है | मानवता की पहचान से , जो परम ब्रह्म तक ले जाता है । सत्य…

राजीव और अमित को मिला स्मृतिशेष डाँ अन्नपूर्णा भदोरिया साहित्य सम्मान 2020

शि.वा.ब्यूरो, कांगड़ा (हिमाचल प्रदेश)। राष्ट्रीय मासिक पत्रिका आदित्य संस्कृति ने श्रेष्ठ साहित्य सृजन के लिए देश के विभिन्न प्रांतों के 100 साहित्यकारों को सम्मानित किया, उनमें से हिमाचल के कांगड़ा जिले के जयानककड गांव के राजीव डोगरा ‘विमल’ और अमित डोगरा को स्मृति शेष डाँ. अन्नपूर्णा भदोरिया साहित्य सम्मान 2020 के सम्मान देकर सम्मानित किया गया। राजीव डोगरा ‘विमल’ और अमित डोगरा को यह सम्मान संपादक भानु शर्मा तथा संरक्षक जगत शर्मा और अंशु शर्मा ने प्रदान किया। सम्मान मिलने पर राजीव और अमित के पिता हंसराज तथा माता सरोज…

अनदेखे अनसुने

राजीव डोगरा ‘विमल’, शिक्षा वाहिनी समाचार पत्र। कुछ बातें अनकही हैं कुछ जज्बात अनसुने है कुछ चेहरे अनदेखे हैं कुछ ख्वाब अनसुने है कुछ रिश्ते अनदेखे हैं कुछ हसरतें अनकही है कुछ पहलू अनसुने है कुछ कहानियां अनदेखी है कुछ अंदाज अनसुने है कुछ लोग अनदेखे हैं कुछ गीत अनसुने है कुछ रास्ते अनदेखे हैं भाषा अध्यापक गवर्नमेंट हाई स्कूल ठाकुरद्वारा, हिमाचल प्रदेश

ईश्वर तेरे नाम पर

प्रीति शर्मा “असीम”, शिक्षा वाहिनी समाचार पत्र। ईश्वर तेरे नाम पर , कितना व्यापार चलता है । सुख की आस में, हर इंसान दुःख के मझधार में पलता है। ईश्वर तेरे नाम पर , कितना व्यापार चलता है । कौन ……सुखी हैं? इस प्रश्न का उत्तर ही नहीं मिलता है।  यह कौन -से कर्मों का फल है । जिसका लेखा-जोखा फलता है। ईश्वर तेरे नाम पर , कितना व्यापार चलता है । दुनिया  भी तूने बनाई।  इंसान भी तेरे सभी। फिर कहां से बुरे कर्मों की,  पहेलियाँ तुमने घड़ी।  हर…

दिल की गहराई

राजीव डोगरा ‘विमल’, शिक्षा वाहिनी समाचार पत्र। दिल की गहराइयों में तुम्हें छुपा रखा, अपने चेहरे की मुस्कराहट में तुमको जमा रखा है। सोचता हूं तुमको भूल जाऊं, मगर प्रकृति के कण-कण में फैली खुशबू में तुमको समा रखा है। सोचता हूं तुमको छोड़ दूं, मगर अंतर्मन की बिखरी सिमटी गहरी यादों में तुमको छुपा रखा है। सोचता हूं मैं काफ़िर हो जाऊं, मगर तेरी यादों की गहराई ने आज भी मुझे आशिक बनाए रखा। भाषा अध्यापक गवर्नमेंट हाई स्कूल ठाकुरद्वारा (कांगड़ा) हिमाचल प्रदेश

शिखा चौधरी ठाकुरद्वारा विद्यालय में अव्वल

राजीव डोगरा, कांगड़ा (हिमाचल प्रदेश)। 5 जुलाई को हिमाचल शिक्षा बोर्ड द्वारा दसवीं कक्षा का नतीजा घोषित किया गया, जिसमें सात पैरामीटरों एवं पूर्व परीक्षाओं के आकलन के आधार पर शिखा चौधरी ने 700 में से 635 अंक हासिल कर राजकीय उच्च विद्यालय ठाकुरद्वारा  में प्रथम स्थान हासिल किया। द्वितीय स्थान संजना (594) और तृतीय स्थान पर खुशबू (586) रही। शिखा चौधरी के पिता केवल कुमार तथा माता संजना कुमारी ने बहुत ही खुशी व्यक्त करते हुए स्कूल स्टाफ का धन्यवाद किया, जो बच्चों को शिक्षा के साथ-साथ अन्य कलात्मक…

असीम! तुम्हारी कविता (एक संस्मरण)

प्रीति शर्मा “असीम”, शिक्षा वाहिनी समाचार पत्र। आज तुम्हारी फाइलों को तुम्हारे जाने के बाद लोगों को वापस देने के लिए कुछ किताबों के पन्नों में से एक डायरी का पन्ना निकला। मेरे छोटे भाई अनुज ने वह पेज उठाया और कहा दीदी आपकी कविता।  मेरी कविता! मुझे हैरानी हुई कि असीम की फाइलों में मेरी कविता, लेकिन जब मैंने देखा तो मैंने उसे लिखावट देख कर बताया कि यह मेरी नहीं उनकी (असीम) कविता है। शीर्षक लिखा था….दर्द दिल में ऐसा क्या होता है। खून के आंसू क्यों रोता…

जाग्रत शक्तिपुंज है अरण्यवासिनी देरठू भगवती

डा. हिमेन्द्र बाली, शिक्षा वाहिनी समाचार पत्र। पर्वतराज हिमालय के मध्योत्तर खण्ड के अंतर्गत पौराणिक जालन्धरपीठ में अवस्थित काली भगवती देरठू का मंदिर शिमला जिले की कुमारसैन तहसील में लगभग नौ हजार फुट की ऊंच्चाई पर सुरम्य पर्वत शिखर पर विराजमान है। मध्य हिमालय की अप्रतिम पर्वत श्रृंखला शिमला पहाड़ियों के पश्चिम में स्थित देरठू भगवती का मंदिर राष्ट्रीय मार्ग पांच पर नारकण्डा से आठ किमी पश्चिम की ओर सघन वन राशि के मध्य में नयनाभिराम भूस्थल पर स्थित है। एकान्तवासिनी देरठू देवी छबीशी क्षेत्र की अधिष्ठात्रि देवी है, जिसकी…

कौन सा वक्त

राजीव डोगरा ‘विमल’, शिक्षा वाहिनी समाचार पत्र। न जाने कौन सा वक्त है जो वक्त के साथ सब कुछ डलता जा रहा है। न जाने कौन सा वक्त है जो वक्त के साथ सब कुछ बदलता जा रहा है। न जाने कौन सा वक्त है जो वक्त के साथ सब कुछ खामोश करता जा रहा है। न जाने कौन सा वक्त है जो वक्त के साथ सब कुछ ठहरता जा रहा है। न जाने कौन सा वक्त है जो वक्त के साथ जो सब कुछ छीनता जा रहा है। न…