निर्णय आपका है

दिलीप भाटिया, शिक्षा वाहिनी समाचार पत्र। सीबीएसई की परीक्षा 4 मई से, आरबीएसई की 6 मई से, रीट की 25 अप्रैल से और इसी प्रकार विभिन्न विश्वविद्यालयों बोर्ड एवम कई प्रतियोगिता परीक्षाओं की समय सारिणी आ गई हैं, कुछ की आ रही हैं। आईआईटी जेईई की मैन्स तो मार्च अप्रैल मई में होंगी। नीट की परीक्षा का समय भी शीघ्र घोषित किया जायेगा। इस थोड़े से समय में पूरा कोर्स पढ़ना है। परीक्षा प्रारंभ अथवा होने वाले दिन से एक सप्ताह पहले तक पूरी तैयारी कर लेना है। अंतिम एक…

गागर में सागर है डॉक्टर चंचल मल चोरडिया की पुस्तक अच्छे स्वास्थ्य के मापदंड (पुस्तक समीक्षा )

दिलीप भाटिया, शिक्षा वाहिनी समाचार पत्र। चौबीस पेज की यह छोटी सी पुस्तक गागर में सागर है। सैंतीस पुस्तकों के लेखक चंचल सर साधुवाद के पात्र हैं। उनकी सशक्त कलम को नमन। व्यस्त जीवन में हम आप मैं सभी अपने स्वयं के स्वास्थ्य के प्रति लापरवाह रहते हैं। बीमार होने पर कुछ दिन दवा खा लेते हैं, फिर भी हम अपने स्वास्थ्य को सही रखने के लिए कुछ भी प्रयास नहीं करते। नब्बे प्रतिशत व्यक्तियों की यही कड़वी हकीकत है। यह पुस्तक जागरूक करने में सक्षम समर्थ है। इस पुस्तक…

अपने 35वें जन्मदिन पर डा.मिली भाटिया ने सीएचसी में नवजात कन्याओं के लिए 11 बेबी सूट प्रदान किये

शि.वा.ब्यूरो, रावतभाटा (राजस्थान)। डाॅ.मिली भाटिया आर्टिस्ट ने अपना 35वां जन्मदिन राजकीय सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में नवजात ग्यारह कन्याओं को बेबी सूट भेंट करके मनाया। डाॅक्टर मिली भाटिया की मानें तो उन्हें माँ बनने की खुशी राजकीय सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में ही मिली थी। डाॅक्टर मिली ने बताया कि अपने जन्मदिन पर नवजात कन्याओं को बेबीसूट प्रदान करने से जो खुशी प्राप्त हुई है, उसका शब्दों में बखान करना नामुमकिन है। उन्होंने सामुदायिक केंद्र को रावतभाटा का सबसे बेस्ट हाॅस्पिटल बताते हुए कहा कि यहां के प्रभारी डाॅक्टर अनिल जाटव के…

सुधारो व सुधरो

दिलीप भाटिया, शिक्षा वाहिनी समाचार पत्र। प्रिय विद्यार्थी एवम प्रतियोगिता परीक्षाओं के उम्मीदवार ! व्हाटसएप, ई मेल, फोन मैसेंजर व स्कूलों में मिलने पर तुम्हारे अथवा मेरे कमरे पर मिलने पर तुम्हारे पास समस्याओं की एक लंबी सूची रहती है। उदास दुखी असमंजस तनाव परेशान वाले तुम्हारे मायूस चेहरे बहुत कुछ तुम्हारी पीड़ा स्वयं ही बोल देते हैं। जैसे-अंकल! कई बार अपीयर हो चुकी हूं मेहनत भी करती हूं, कोटा जाकर कोचिंग भी करी फिर भी रिजल्ट नेगेटिव आता है। इस समस्या का मंत्र है सुधारो। जी हां! पिछली परीक्षाओं…

मैं मिली

डॉक्टर मिली भाटिया आर्टिस्ट, शिक्षा वाहिनी समाचार पत्र। हवाओं से बातें करती हूँ सपनो की दुनिया में रंगो को भरती हूँ मैं मिली खोई खोई सी रहती हूँ ज़िन्दगी से उलझती हूँ दिल की सुनती हूँ मैं मिली आसमान से बातें करती हूँ फूलों की मुस्कुराहट को काग़ज़ पर उकेरती हूँ मैं मिली चिड़िया सी चहकती हूँ चंचल-शोख़ सी थी कुछ खामोशी से अब बातें रखती हूँ मैं मिली तारों से सुलझती हूँ बादलों सी बरसती हूँ काग़ज़ को कलम से सजाती हूँ मैं मिली खोई खोई सी रहती हूँ………..!!…

कैलाश चुप रहता है

दिलीप भाटिया, शिक्षा वाहिनी समाचार पत्र। कैलाश सेवानिवृत्त विधुर इकलौती संतान बेटी के परिवार के साथ जीवन संध्या में जीवन की शेष सांसें पूरी कर रहा है। एक डॉक्टर ने कैलाश को टिप्स दिए थे कि बुजुर्गों को बच्चों के साथ रहना है, तो दो मंत्रों का पालन करना चाहिए। पहला अपना मुंह बंद रखें और दूसरा अपने पर्स का मुंह खुला रखें, इसी लिए कैलाश चुप रहता है। समय का सदुपयोग करने के लिए विद्यार्थियों एवं प्रतियोगिता परीक्षाओं के उम्मीदवारों को पढ़ाई परीक्षा के टिप्स देता रहता है। मार्गदर्शन…

सलाह समर्थ से, निर्णय स्वयं का

दिलीप भाटिया, शिक्षा वाहिनी समाचार पत्र। कई समस्याओं में स्वयं निर्णय लेने में असमंजस होना स्वाभाविक है। मार्गदर्शन सलाह सुझाव राय किसी सक्षम समर्थ व्यक्ति से लेने में कोई संकोच नहीं करना चाहिए। प्राप्त सुझावों का पहले स्वयं चिंतन कर मूल्यांकन करें, तभी निर्णय लें। जिस भी समाधान पर अमल कर रहे हैं, उसकी ज़िम्मेदारी हमारी स्वयं की ही है, सलाह देने वाले प्राणी की नहीं। हमारी अपनी समस्या का समाधान करना हमारी स्वयं की ज़िम्मेदारी है। कोई अन्य व्यक्ति उसके लिए उत्तरदाई नहीं है। सलाह देने वाला अपने ज्ञान…

नारी अन्तर्मन के भावों को कैनवास पर उकेरने की एक्सपर्ट साबित हो रही डा. मिली भाटिया

शि.वा.ब्यूरो, रावतभाटा (राजस्थान)। बहुआयामी प्रतिभा की धनी डा. मिली भाटिया आर्टिस्ट काफी दिनों से नारी अन्तर्मन के भावों को कैनवास पर उकेरने के लिए चर्चा में हैं। उनके द्वारा अपनी पेंटिंग में विभिन्न परिस्थितियों में नारी मन की अन्तर्दशा को बखूबी उभारा है। डा. मिली की इन पेंटिंग को प्रदर्शनी में काफी सराहना भी मिल चुकी है। जानकारों की मानें तो बहुआयामी प्रतिभा की धनी मिली भाटिया काफी संवदेनशील हैं, बेटी, प्रेयसी, पत्नी और मां के दायित्व का वे बडी संवेदनशीलता के साथ निर्वहन कर रही हैं। इतना ही नहीं…

डॉक्टर मिली भाटिया आर्टिस्ट ने मकर संक्रांति पर 14 ज़रूरतमंदो को टिफ़िन, तिल के लड्डू, रेवड़ी आदि चीजें बाँटी

शि.वा.ब्यूरो, रावतभाटा(राजस्थान)। डॉक्टर मिली भाटिया आर्टिस्ट ने मकर संक्रांति पर बालाजी नगर रावतभाटा में अपने घर के पास प्लास्टिक के टेंट में रहने वाले 14 ज़रूरतमंदो को टिफ़िन, तिल के लड्डू, रेवड़ी आदि सामग्री बाँटी। डॉक्टर मिली ने कहा कि आस पड़ोस के अमीर लोगों को संक्रांति पर लड्डू-रेवड़ी आदि सामग्री बाँटने के बजाय ज़रूरतमंद लोगों को अपनी इच्छानुसार चीजें बाँटे। उन्होंने कहा कि ठंड में सिकुड़ते लोग जो प्लास्टिक के टेंट में रह कर जीवन व्यापन कर रहे हैं, उनकी थोड़ी मदद की जाए।

हैपी बर्थडे प्यारी लिली ( जन्मदिन विशेष)

डॉक्टर मिली भाटिया आर्टिस्ट, शिक्षा वाहिनी समाचार पत्र’ मिली की “लिली” नख़रेवाली खिली मेरी बेटी सबसे छोटी करती वो दो-दो चोटी नहीं खाती बिलकुल रोटी मम्मी की हेल्प करती दिनभर टॉल्ज़ के साथ खेलती अपने रूम को दिनभर जमाती ड्रॉइंग बोहोत सुंदर बनाती मन लगाकर पढ़ाईं करती “नानाजी” से कहानी सुनती “पापा” से लाड़ लड़ाती आज अपना 7 वाँ बर्थडे मनाती हैपी बर्थडे प्यारी “बेटी”!! रावतभाटा, राजस्थान