अखबार चालीसा

डॉ. दशरथ मसानिया,  शिक्षा वाहिनी समाचार पत्र। पत्र पत्रिका ज्ञान हो,प्रजातंत्र हिताय। सूचना का तंत्र है,मानव करे सहाय। खबर पत्र है जन जन वाणी। सकल विश्व में अलख जगाणी।।1 नारद मुनि भी खबरें लाते। समाचार सब प्रभू सुनाते।।2 मानव हित में काम कराते। दुष्ट जनों को सबक सिखाते।।3 बंगाल गजट जेम्स निकाला। सत्रह सौ अस्सी  में पहला।।4 पहला हिन्दी पत्र प्रकाशा। तीस मई अठार छबिसा ।।5 सब जन का बनता विश्वासा। उदन्त मार्तंडा परकाशा।।6 सोते जन को तुमहि उठाते। भंडा फोड़े सत्य कहाते ।।7 नया रूप सब पत्रन  लाये। नये…

संत रैदास चालीसा (जयंती पर विशेष)

डॉ. दशरथ मसानिया,  शिक्षा वाहिनी समाचार पत्र। मां गंगा ने कृपा करि, कंगन दे सम्मान। मानवता की साधना, भक्त रैदास महान।। जयजयजय सद्गुरु रैदासा। सद्गुण ज्ञानी विश्व समाजा।१ माघ मास पूनम उजियारी। चन्द्र ग्रहण भी लागा भारी।।२ रविवासर दिन शुभ था आई। संवत चौदह तैंतिस भाई।।३ काशी के ढिंग मांडुर ग्रामा। जन्मे सदगुरु पावन धामा।।४ राघू दास पिता कहाये। करमा देवी कोंख सु आये।।५ धरम संगिनी देवी लोना। पूत दास विजय सलोना।।६ रवि रैदासा नाम तुम्हारा। नाम सुमिरता सब संसारा।।७ सात बरस की उमर कहाई। नवधा भक्ति आपने पाई।।८ कागज…

विश्वकप के दोहे 2015

डॉ. दशरथ मसानिया,  शिक्षा वाहिनी समाचार पत्र। पहला मेच पाक से, कोहलि बने विराट । धोनी मोहित छा गये, शिखर धवन सम्राट । । अफ्रिका भी हार गया, भारत मारे तीर । शिखर सैंकड़ा मारके, बने टीम के पीर।। संयुक्त अमीरांत मे, रोहित बने महान । नौ विकेट से जीतके,शमी देश की शान।। चौथा वेस्टइण्डीज से, जीते चार विकेट। धन धन बेटा आपको, बल्ले से आखेट ।। आयरलैंड आठ से, भारत से थी हार। शिखरधवन की शतकसे, आया रंग बहार ।। सुरेश रैना सैकड़ा, जिम्बाबे की हार । छै विकेट…

बसंत समया जाके

डॉ. दशरथ मसानिया,  शिक्षा वाहिनी समाचार पत्र। गौरी प्रीतम आस मे, निशिदिन करे विचार। कामबाण हिय मे लगो, करती हा हा कार।। 1 सिसक सिसक के रोरही, अंसुअन बहती धार।  हिरदे धड़कन धड़कती, रोम रोम इजहार।। 2 केश बाँध चोटी करी, नागिन सी दिखलाय। उदर झरोखा नाभि का, सबका मन भरमाय।। 3 मन्द मन्द मुस्कात हैं, नैना बने कटार । बागन मे संगत करे, कलिया कहे पुकार।। 4 पान खाय अधरा चलें, भौहन से बतराय । कानन की लटकन हलें, नथनी झोका खाय।। 5 हाथन झाला साधके, नैन रही मटकाय।…

पूनम चालीसा

डॉ. दशरथ मसानिया,  शिक्षा वाहिनी समाचार पत्र। धवल चांदनी पूर्णिमा, चांदी जैसी रात। सब जीवन सुख देत है,चंदा गयो प्रभात।। पूनम चंदा लगता सुंदर। सोलह आना पूरा मंदर।।१ बारह पूनम बारह मासा । बारह उत्सव श्वेत प्रकाशा।।२ जन जन हरषें जीव सुहाये। ज्ञान दान कर संत कहायें।।३ रजत चाॅंद की चंचल किरणें। तेज दौड़ती जैसे हिरणें।।४ पूनम भजते नारद शेषा। सतनारायण कथा विशेषा।।५ पूनम चैत्र हनुमत आये। राम लखन के काम बनाये।।६ खुशियां छाई मिली बधाई। गदगद होती अंजनि माई।।७ सर्दी गर्मी कछु ना लागे । समय सुहाता सब दुख…

भारतरत्न सचिन चालीसा

डॉ. दशरथ मसानिया, शिक्षा वाहिनी समाचार पत्र। भारत के तुम रतन हो, खेलों के भगवान। भारत की सद्भावना,कहत हैं कवि मसान।। जय सचिन क्रिकेट के तारे। तुम्हरे बल्ले से सब हारे।।१ अप्रैल चौबिस तिहत्तर आई। मुंबई गली में बजी बधाई।।२ रमेश तेंदुल पिता तुम्हारे। जो शिक्षक लेखक थे प्यारे।।३ मां रजनी ने दूध पिलाया। अजित अंजली साथ निभाया।।४ आमरेचर के चेला प्यारे। गुरू  कृपा से बने सितारे।।५ सखा कामली थे  तुम्हारे । रणजी ट्राफी में सब हारे।।६ छै सौ रन का प्हाड़ बनाया। भीम शिवा सा नाम कमाया।।७ तुम्हें देख…

सूर्यकांत निराला चालीसा (बसंत पंघमी पर विशेष)

डॉ. दशरथ मसानिया, शिक्षा वाहिनी समाचार पत्र। शारद सुत को नमन करुं, कीना जग परकाश। सूर अनामी गीतिका, परिमल तुलसीदास। अणिमा बेला अर्चना, चमेली अरु सरोज। गीत कुंज आराधना, सूरकांत की खोज।। हिन्दी कविता छंद निराला। सूर्यकांत भाषा मतवाला।।1 बंग भूमि महिषादल भाई । मेंदनपुर मंडल कहलाई।।2 पंडित राम सहाय तिवारी। राज सिपाही अल्प पगारी।3 इक्किस फरवरी छन्नु आई। पंच बसंती दिवस सुहाई।।4 बालक सुंदर जन्मा भाई। सकल नगर में बजी बधाई।।5 जनम कुंडली सुर्ज कुमारा। पीछे सूर्यकांत उच्चारा।।6 बालपने में खेल सिखाया। कुश्ती लड़के नाम कमाया।।7 हाइ इस्कूल करी…

गाँधी चालीसा ( 30 जनवरी शहीद दिवस पर विशेष)

डॉ. दशरथ मसानिया, शिक्षा वाहिनी समाचार पत्र।  सत्य धरम अरु राष्ट्रहित, गाँधी का अवतार । भौतिक सुख साधन तजे,  राखे उच्च विचार ।। जय जय प्यारे बापू गाँधी । सत्य अहिंसा की तुम आँधी।।1 भारत माता के तुम पूता। बने जगत के शांति दूता।।2 जन्मे मोहन दो अक्टोबर । सन अट्ठारह सौ उनहत्तर।।3 पितु करमचन्द पुतली माता। तुम  जन्मे पोरा  गुजराता।।4  हरिश्चंद्र जब नाटक देखा। जाना जीवन सांचा लेखा।।5 भक्त श्रवण की कथा सुहाई। मात पिता की सेवा भाई।।6 संस्कार बचपन से पाया। साफ छवि का चरित्र बनाया।7 शाला में…

जय शंकर चालीसा (जन्म दिवस 30 जनवरी पर विशेष)

डॉ. दशरथ मसानिया, शिक्षा वाहिनी समाचार पत्र।  शारद पूत नमन करूं, जय शंकर परसाद। नाटक कविता अरु कथा,हिन्दी छायावाद।।  जय शंकर हिन्दी हितकारी। साहित सेवा सदा विचारी।।1 विश्वनाथ काशी कल्याणी। देवी के घर शारद वाणी।।2 माघा शुक्ला दसमी ईशा। संवत उन्निस छैयालीसा।।3 जनवरि तीस नवासी आई। जयशंकर जब जन्में भाई।।4 क्वींस कॉलेज करी पढ़ाई। बाकी शिक्षा घर में पाई।।5 सत्रह में मां बाप गंवाई। ता पीछे बिसरे बड़ भाई।।6 विधवा भाभी माता देखा। जीवन की जब टूटी रेखा।।7 कमला देवी से सुत जाये। रत्ना शंकर नाम धराये।।8 घर में विपदा…

सुभाषचन्द्र बोस चालीसा (जन्म दिवस 23 जनवरी पर विशेष)

डॉ. दशरथ मसानिया, शिक्षा वाहिनी समाचार पत्र भारत मां के पूत है, ऐसे वीर सुभाष। तनमनधन सब वारते, सब जग करता आश।। जय सुभाष तुम मंगलकारी। तुम्ही सांचे  देश  पुजारी।।1 जन जन के नेता कहलाये। आजाद हिन्द फौज बनाये।।2 नेताजी कह सभी पुकारी। सब जन के थे पीड़ा हारी।।3 बल बुद्धि विद्या के सागर। साहस चतुराई  के आगर।।4 अट्ठारह   संताणू  भाया। तेइस जनवरि बालक आया।।5 कटक उड़ीसा खुशियां छाई। जन्में सुभाष मिली बधाई ।।6 प्रभावति की कोख से आये। पिता जानकी नाथ कहाये।।7 कटक पुरी में शिक्षा पाई। कलकत्ता कालेज…