समय

विनय सिंह “विनम्र”, शिक्षा वाहिनी समाचार पत्र।

ये रेत के अवसर पर”
समय के पदचिन्ह
सागर मिटाने को है आतुर
लग रहा कुछ खिन्न।
चिंतन चिता में सोच उसकी,
निरंतरता के तार को
कितना ग्रहण मैं कर सकूंगा
जीवन के लघु इस हार को।
क्या धूल के इस रक्त को
बीतते इस वक्त को
कोई सबल रख पाया है
सबको समय ने खाया है।
ग्राम मझवार खास, चन्दौली उत्तर प्रदेश

Related posts

Leave a Comment