श्रीराम काॅलेज में वाद-विवाद प्रतियोगिता

शि.वा.ब्यूरो, मुजफ्फरनगर। श्रीराम काॅलेज के वाणिज्य संकाय में वाद-विवाद प्रतियोगिता का आयोजन सभागार में आयोजित किया गया। वाद-विवाद प्रतियोगिता का विषय ’’घर से कार्य करने वाले कर्मचारी अधिक उत्पादक होते है। Employees that work from home are more productive पर छात्रों द्वारा कठोर व मृदु भाषा का प्रयोग करके सभी सभागार मे बैठे अतिथियों व छात्रों को मंत्रमुग्ध कर दिया। वाद-विवाद प्रतियोगिता का शुभारम्भ श्रीराम काॅलेज के निदेशक डा0 आदित्य गौतम, एकेडमिक्स डीन डा0 विनित शर्मा, प्रबंधन डीन पंकज शर्मा, श्रीराम काॅलेज की प्राचार्य डा0 प्रेरणा मित्तल, वाणिज्य विभाग के विभागाध्यक्ष डा0 सौरभ मित्तल द्वारा सामूहिक रूप से दीप प्रज्जवलित करके किया गया।
मंच संचालन वाणिज्य विभाग की प्रवक्ता गरिमा सिंह व छात्रा महरीन मिर्जा द्वारा किया गया।


वाद-विवाद प्रतियोगिता में लगभग 30 छात्रों ने प्रतिभाग किया, जिसमें से कुछ पक्ष में रहे तथा कुछ विपक्ष में रहे। विद्यार्थियों ने इस कार्यक्रम में बडे जुनून तथा उत्साह से प्रतिभाग किया। श्रीराम काॅलेज की प्राचार्य डा0 प्रेरणा मित्तल ने बताया कि इस तरह की प्रतियोगिता में प्रतिभाग कर विद्यार्थियों के अंदर छीपी हुई प्रतिभा तो दिखाई देती ही है तथा वह अपनी प्रतिभा का लोहा भी मनवाता है। किसी भी विषय पर होने वाली प्रतियोगिता छात्रो को आत्म-निर्भर बनाने में सहायक होती है। कोरोना वायरस के चलते बहुत व्यक्तियों की रोजी-रोटी खतरे में थी कुछ व्यक्ति बेरोजगार हुये तो कुछ ने अपनी काबिलियत का लोहा मनवाया। वाणिज्य विभाग के विभागाध्यक्ष डा0 सौरभ मित्तल ने बताया कि घर से कार्य करना उत्पादक होता है या नहीं इस विषय पर दोनों ही पहलु को विद्यार्थियों द्वारा विस्तार पूर्वक समझाया गया। जीवन की हर घटना चाहे वह व्यक्तिगत हो या पेशेवर, परिस्थितियों पर निर्भर है देश भयंकर बीमारी से गुजर रहा है, जहाॅं बीमारी के साथ-साथ लोगों की आर्थिक स्थिति भी बिगडी है लेकिन हर घटना कुछ सीखाकर भी जाती है। घर के परिवेश से बाहर निकलकर समाज की हकीकत से खुद का परिचय कराना व करना सामाजिक महत्व के लिये जरूरी है, लेकिन ऐसी परिस्थितियों में घर की आर्थिक स्थिति को बनाये रखने के लिये रोजगार भी जरूरी है। घर से बाहर रहकर ही व्यवहारिक ज्ञान को सीखा जाता है। कार्य घर से उत्पादक तो होता है, लेकिन कार्यो का विस्तार व्यापक स्तर पर नहीं हो पाता है।


निर्णायक मंडल की भूमिका डा0 सौरभ मित्तल व डा0 एम0एस0खान द्वारा निभायी गई। निर्णायक मंडल द्वारा प्रतियोगिता मे प्रथम स्थान पर रूचि देओल द्वितीय स्थान पर अनस अंसारी तथा तृतीय स्थान पर शगुन त्यागी को विजेता घोषित किया गया। प्रतिभाग करने वाले सभी छात्रों को प्रमाण-पत्र दियेे गये व विजयी स्थानों पर स्थान बनाने वाले छात्रों को मनोबल बढाने के लिये स्मृति चिन्ह  व प्रमाण पत्र दिये गये। कार्यक्रम के अंत मे विभागाध्यक्ष के साथ सभी शिक्षकों ने विद्यार्थियों को सफलता की बधाई दी तथा बताया कि उच्च मनोबल वो शक्ति है जो इंसान को किसी की नजरों में गिरने नहीं देती। कार्यक्रम में वाणिज्य विभाग के प्रवक्तागण पूजा, मुकेश कुमार, गरिमा सिंह, श्वेता गर्ग तथा नैना बंसल आदि उपस्थित रहें।

Related posts

Leave a Comment