श्री राम गर्ल्स काॅलेज में भोजन में पोषक तत्व पर एक दिवसीय सेमिनार आयोजित

शि.वा.ब्यूरो, मुज़फ्फरनगर। श्रीराम ग्रुप ऑफ़ कालेजेज की इकाई श्रीराम गर्ल्स काॅलेज में भोजन में पोषक तत्व (प्रोटीन) पर आयोजित कार्यशाला का शुभारम्भ गृह विज्ञान विभाग की डीन डाॅ0 श्वेता ने दीप प्रज्जवलित करके किया। उन्होंने छात्राओं को प्रोटीन के बारे में जानकारी देते हुए प्रोत्साहित किया। उनके उज्जवल भविष्य की कामना करते हुए डाॅ0 श्वेता कहा कि वैसे तो हम आमतौर पर अपने भोजन में सभी पौष्टिक तत्वो को समावेष रखते है, परन्तु गृह विज्ञान एक ऐसा विषय है, जो कि किस व्यक्ति को कौन से पोषक तत्व की कितनी मात्रा लेनी चाहिए वह हमें सिखाता है। उन्होंने कहा कि गृह विज्ञान की छात्राए इस विषय की उत्तम जानकारी देकर समाज में इस विषय एवं इसकी महत्ता को बढावा दे रही है।
कार्यशाला में विद्यार्थियों ने बताया गया कि आधुनिक जीवन शैली में भोजन में प्रोटीन का क्या महत्व है? इस सम्बन्ध में गृह विज्ञान विभाग की छात्राओं ने प्रोटीन की भिन्न-2 विषेषताओं को बताते हुए अपनी पावर पाइंट प्रजेन्टेशन द्वारा जानकारी को साझा किया तथा आज के आधुनिक युग में जहाॅ लोगो के पास अपने शरीर को स्वस्थ रखने के लिए न तो समय है और न ही शुद्ध खाद्य पदार्थ क्योंकि खाद्य पदार्थो में मिलावट दिन पर दिन बढ़ती जा रही है। एमएससी फूड़ एण्ड न्यूट्रेशन की खुशी ने प्रोटीन की महत्ता को बताते हुए कहां कि यह हमारी शरीर की वृद्धि करता है तथा कोषिकाओं का निर्माण करता है। खुशी ने बताया कि प्रोटीन के द्वारा हमारे शरीर में रसायनिक क्रियाए होती जो हमारे पाचन क्रिया में सहायक होती है। प्रोटीन के द्वारा ही हमारे शरीर में हार्मोन्स और एन्जाइमस का निर्माण होता है। इंशा ने जीवन में प्रोटीन के महत्व के बारे में बताया कि यह हमारे शरीर में बहुत से कार्य करता है। वर्षा ने प्रोटीन की महिलाओं के लिए आवष्यक ता के बारे में बताया। उसने बताया कि किन-2 बीमारियों में प्रोटीन का सेवन कम मात्रा में करना चाहिए। रूपल ने बताया कि विद्यालय जाने वाली 15 से 25 आयु वर्ग की छात्राओं में प्रोटीन की कमी से होने वाली शारीरिक वृद्धि पर क्या प्रभाव पड़ता है। अंजली रूहेला ने बताया कि धात्री माताओं को ज्यादा प्रोटीन की आवष्यकता होती है, ताकि शिशु को माॅ का दूध पर्याप्त मात्रा में मिल पाये और शिशु का विकास पूर्ण रूप से हो सके। शिवानी तोरिया ने बताया कि प्रोटीन की कमी से होने वाले रोग क्वाषियोरकर, मरास्मस, त्वचा रोग, बाल झड़ना समस्या हो जाती है। कार्यक्रम में गृह विज्ञान विभाग की ड़ीन डाॅ0 श्वेता एवं प्रवक्तायें रानी मेनवाल, रूबी पोसवाल, वर्षा पंवार, ईषा अरोरा, अलीना, सोफिया अंसारी आदि का महत्वपूर्ण योगदान रहा।

Related posts

Leave a Comment