मिशन शक्ति के तहत उत्कृष्ट कार्य करने वाली स्वयं सहायता समूह की महिलाएं व आंगनबाड़ी कार्यकर्ता सम्मानित

शि.वा.ब्यूरो, शामली। प्रदेश में महिलाओं एवं बालिकाओं की सुरक्षा,सम्मान एवं स्वावलंबन के लिये संचालित मिशन शक्ति कार्यक्रम के अंतर्गत राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन के स्वयं सहायता समूह की संगोष्ठी एवं एक दिवसीय कार्यशाला का आयोजन विकासखंड कैराना में आयोजित किया गया। कार्यक्रम का शुभारंभ मुख्य अतिथि के रूप में जिलाधिकारी जसजीत कौर ने मां सरस्वती के समक्ष दीप प्रज्वलित कर किया । जिलाधिकारी ने नारी शक्ति के रूप में बैठी समूह की महिलाओं,एवं आंगनबाड़ी कार्यकर्ता से कहा कि महिलाओं को जागरूक करने के उद्देश्य से प्रदेशभर में मिशन शक्ति अभियान चल रहा है, जिसके क्रम में जनपद में विशेष अभियान के रूप में प्रतिदिन महिलाओं एवं बालिकाओं को जागरूक करने के उद्देश्य से विभागों द्वारा कार्यक्रम आयोजित कराए जा रहे हैं। इस अवसर पर जिलाधिकारी ने कोरोना काल के दौरान समूह की महिलाओं आंगनबाड़ी एवं आशा कार्यकर्ता द्वारा दिए गए सहयोग की प्रशंसा की। जिलाधिकारी ने कहा कि अभी कुछ दिन पहले जनपद में कोरोना के केस शून्य हो गए थे, परंतु पिछले दो-तीन दिन से जनपद में कोरोना के नये केस दोबारा आने शुरू हो गए हैं इसलिए किसी भी स्तर से सावधानियां नहीं छोड़नी है मास्क, हैंड सैनिटाइजर, साबुन पानी से हाथों को धोना है,ज्यादा भीड़भाड़ वाले स्थान पर जाने से बचना है और इसके लिए अपने आसपास के जन सामान्य को भी जागरूक करना है।
जिलाधिकारी ने कहा कि यदि आपके घर में कोई 60 वर्ष से ऊपर का व्यक्ति है तो वह सरकारी अस्पताल में निशुल्क एवं प्राइवेट अस्पताल में 250 रुपए देकर अपना टीकाकरण करा सकता है। यदि कोई व्यक्ति 45 या 60 के मध्य है,और किसी गंभीर बीमारी से ग्रस्त है तो वह डॉ का पर्चा अपने साथ ले जाकर अपना टीकाकरण करा सकता है। कार्यक्रम में जिलाधिकारी ने समूह की महिलाओं,एवं आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं से कहा कि आप अपने कार्यों के साथ-साथ अपने क्षेत्रों में सरकार की योजनाओं का भी अधिक से अधिक प्रचार प्रसार करें और महिलाओं की सुरक्षा हेतु सरकार द्वारा जारी किए गए हेल्पलाइन नंबर की भी जानकारी दें। जिलाधिकारी ने उपस्थित महिलाओं से कहा कि स्वस्थ शरीर के लिए पौस्टिक आहार जरूर लें और जितनी बार भी खाना खाए उसके बाद गुड़ का सेवन जरूर करें और बेटियों को भी गुड़ का सेवन कराएं,खाने में हरी सब्जी का सेवन करें। घर के आंगन के बाहर सहजन का पौधा लगाएं उसकी सब्जी बनाकर उसका सेवन करें। जिलाधिकारी ने अपने संबोधन में कहा कि बेटियों को शिक्षित करें, बेटा बेटी में फर्क महसूस न करें, बेटी को बेटे के बराबर अपनी संपत्ति का हिस्सा दिया जाए।
कार्यक्रम के अंत में जिलाधिकारी ने उपस्थित नारी शक्ति के रूप में बैठी महिलाओं को आठ  मार्च अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस की एडवांस में शुभकामनाएं दी और कहा कि इस दिन को हम एक दिन न मानकर हर दिन को महिला दिवस माने। इस बात को महिला और पुरुष दोनों समझे। मुख्य विकास अधिकारी शंभू नाथ तिवारी ने उपस्थित स्वयं सहायता समूह की महिलाओं आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए कहा कि इतिहास बदल रहा है एक नए युग का निर्माण हो रहा है। उन्होंने जनपद में स्वयं सहायता समूह की महिलाओं के द्वारा किए जा रहे आजीविका के क्षेत्र में सराहनीय कार्यों की प्रशंसा करते हुए कहा कि आज महिलाएं समाज में अपना रुतबा बढ़ा रही है। महिलाओं को आगे बढ़ने के अवसर मिल रहे हैं इसलिए बेटी को बचाना है बेटी को पढ़ाना है यह भाव अपने मन में रखें। आयोजित कार्यक्रम में उपस्थित महिलाओं को महिला पुलिस कांस्टेबल द्वारा विभिन्न हेल्पलाइन जिसमें 112,1090,1098,181,102,1076 आदि नंबरों का उपयोग किस समय करना है उसके बारे में विस्तार रूप से जानकारी दी गई। कार्यक्रम के अंत में जिलाधिकारी ने उत्कृष्ट कार्य करने वाली स्वयं सहायता समूह की महिलाओं,आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं व सांस्कृतिक कार्यक्रम हेतु कस्तूरबा गांधी विद्यालय की छात्राओं को प्रशस्ति पत्र देकर सम्मानित किया।
इस अवसर पर मुख्य विकास अधिकारी शंभू नाथ तिवारी,डीसी एनआरएलएम शैलेन्द्र व्यास, जिला कार्यक्रम अधिकारी संतोष श्रीवास्तव, कार्यक्रम के नोडल अधिकारी प्रसून राय, सहित स्वयं सहायता समूह की महिलाएं एवं आंगनबाडी कार्यकर्ता व बालिकाएं उपस्थित रहीं।

Related posts

Leave a Comment