शहीद मंगल पांडे राजकीय स्नातकोत्तर महिला महाविद्यालय में मानसिक परामर्श सत्र आयोजित

शि.वा.ब्यूरो, मेरठ। शहीद मंगल पांडे राजकीय स्नातकोत्तर महिला महाविद्यालय, माधवपुरम में  आज मिशन शक्ति समिति के तत्वावधान में एक मानसिक परामर्श सत्र का आयोजन किया गया। शासन द्वारा युवाओं में बढ़ते अवसाद और निराशा के परिणाम स्वरूप हो रही आत्महत्या के बढ़ते आंकड़ों के दृष्टिगत तथा बालिकाओं में बढ़ रहे तनाव और निराशा के संदर्भ में आज एक कार्यशाला का आयोजन किया गया जिसमें मुख्य परामर्श दाता के रुप में  डा. अनीता मोराल, मानसिक परामर्शदाता और सहायक प्रोफेसर मनोविज्ञान, मेरठ कॉलेज, मेरठ उपस्थित रहीं। आज जब कोरोना वायरस के डर से पूरी दुनिया में परिवर्तन हो रहे हैं, नवीन परिस्थितियाँ उत्पन्न हो रही हैं तथा बड़ी संख्या में मृत्यु भी हो रही हैं। उच्च शिक्षा के तौर तरीक़ों और परिणामों में भी परिवर्तन हुए हैं। ऐसे में सबके मन में डर, चिंता, तनाव, असमंजस, घबराहट और बेचैनी जैसे कई भावनाएं उत्पन्न हो रही हैं, जिससे छात्र-छात्राओं का मानसिक स्वास्थ्य भी प्रभावित हुआ है। छात्राओं के मन में बहुत से सवाल हैं, जो लोगों को समझ नहीं आ रहे हैं। इसी उद्देश्य से इस कार्यशाला  का आयोजन किया गया। डा. मोराल ने छात्राओं से उनकी आकांक्षाओं और इच्छाओं पर चर्चा करते हुए स्वतंत्रता का अर्थ जिम्मेदारी को बताया। आपने छात्राओं को सुरक्षा, सम्मान और स्वावलम्बन का अर्थ समझाते हुए इन सभी के लिए प्रयास करने की आवश्यकता पर बल दिया। डा. मोराल ने छात्राओं से उनकी समस्याओं और जिज्ञासाओं पर चर्चा की और उनके समाधान भी बताए।
कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुए महाविद्यालय प्राचार्य एवं नोडल अधिकारी मिशन शक्ति, मेरठ प्रो. दिनेश चंद ने छात्राओं को संबोधित करते हुए कहा कि ‘संतुष्टि’ निराशा और अवसाद से उबरने में महत्वपूर्ण है। छात्राओं को अपने लक्ष्य निर्धारित करने चाहिए और असफलता में निराश न होकर और ज्यादा परिश्रम करना चाहिए। प्राचार्य ने कार्यक्रम की सफलता हेतु सभी को बधाई दी एवं छात्राओं से निराश न होने, धैर्य बनाए रखने, समस्याओं के प्रति जागरुक रहने एवं जागरुकता फैलाने की अपील की। कार्यशाला में 60 से ज्यादा छात्राओं ने प्रतिभागिता की । कार्यशाला को महाविद्यालय परामर्शदाता डा. लता कुमार और डा. अमर ज्योति ने भी सम्बोधित किया। डा. ममता सागर ने धन्यवाद ज्ञापन किया। कार्यक्रम का संयोजन और संचालन डॉ. लता कुमार ने किया। कार्यक्रम में समिति के सदस्यों डा. अनुजा गर्ग, डा. स्वर्णलता कदम, डा. भारती शर्मा, डा. अमर ज्योति, डा. कुमकुम के अलावा डा. गीता चौधरी, डा. अनिता गोस्वामी, डा. आर. सी. सिंह, डा. पारुल मालिक उपस्थित रहे।
वहीं महाविद्यालय में मिशन शक्ति कार्यक्रम के अंतर्गत मिशन शक्ति समिति और शारीरिक शिक्षा विभाग के तत्वावधान में छात्राओं हेतु आत्म रक्षा प्रशिक्षण के पंच दिवसीय शिविर  के तीसरे दिन छात्राओं को आत्मरक्षा के विभिन्न तरीक़ों का अभ्यास कराया । उत्तर प्रदेश शासन के महिलाओं व बालिकाओं को सशक्त बनाने के इस महत्वपूर्ण अभियान मिशन शक्ति के अंतर्गत महाविद्यालय द्वारा छात्राओं को आत्मरक्षा के आरम्भिक तौरतरीक़े सिखाने के दृष्टिगत यह आयोजन किया गया है। कार्यक्रम की अध्यक्षता महाविद्यालय प्राचार्य प्रो० दिनेश चंद ने की और सभी छात्राओं को आत्मरक्षा की विभिन्न तकनीकों को प्रतिदिन अभ्यास करने की आवश्यकता से अवगत करवाया। दि. 01.03.2021 से आरम्भ हुये पाँच दिनों तक प्रतिदिन चलने वाले इस शिविर में मेरठ जिला ताइक्वांडो संघ से आए श्री विमलेंदु झा अंतरष्ट्रीय कोच और श्री पूर्णेंदु झा, ताइक्वांडो फ़ेडरेशन ऑफ इंडिया के कोच तथा मेरठ ताइक्वांडो एकेडमी, मेरठ के मुख्य प्रशिक्षकों द्वारा छात्राओं को प्रशिक्षण प्रदान किया जा रहा है। आज उनके द्वारा छात्राओं को आत्मरक्षा से संबंधित कौशल और तकनीकी की जानकारी दी गई तथा तृतीय दिवस का अभ्यास करवाया।कार्यक्रम का संयोजन मिशन शक्ति प्रभारी डा. लता कुमार और शारीरिक शिक्षा प्रभारी डा. भारती शर्मा ने किया। इस कार्यक्रम में 40 प्रतिभागियों ने प्रतिभागिता की जिनमें मुख्यतः एनसीसी कैडेटस और शारीरिक शिक्षा विभाग की छात्राओं ने सहभागिता की। कार्यक्रम में मिशन शक्ति समिति के सदस्यों डा. अनुजा गर्ग, कुमकुम, डा. पूनम भंडारी ने सहयोग किया।

Related posts

Leave a Comment