गॉंव

मुकेश कुमार ऋषि वर्मा, शिक्षा वाहिनी समाचार पत्र।

शहरों सा झुलस रहा है अब गॉंव
पीपल रहा न चौक में, मिट गई ठंडी छांव
जल-जंगल सभी हो गये यहॉं लापता
कंक्रीट के जंगलों ने पसारा चहुंओर पांव
शहरों सा झुलस रहा है अब गॉंव
ताल-तलैया, नदी-पोखर, कुए सब सूखे
मानव बनकर दानव खेल रहा स्वार्थ के दॉंव
शहरों सा झुलस रहा है अब गॉंव
कोख हुई धरती की बंजर देखो आज
हर जीव भटक रहा, मिले न किसी को ठांव
शहरों सा झुलस रहा है अब गांव
पेड़-पौधों को काट रौंद दी सारी प्रकृति
डूब जाएगी आने वाली नव पीढ़ी की नाव
शहरों सा झुलस रहा है अब गांव
साथी ! अगर धरती बचानी है अपनी तो,
प्रकृति प्रेम की और बढ़ाओ अब पांव
शहरों सा झुलस रहा है अब गांव
ग्राम रिहावली, डाक तारौली गूजर, फतेहाबाद, आगरा उत्तर प्रदेश 

Related posts

Leave a Comment