निर्णय आपका है

दिलीप भाटिया, शिक्षा वाहिनी समाचार पत्र।

सीबीएसई की परीक्षा 4 मई से, आरबीएसई की 6 मई से, रीट की 25 अप्रैल से और इसी प्रकार विभिन्न विश्वविद्यालयों बोर्ड एवम कई प्रतियोगिता परीक्षाओं की समय सारिणी आ गई हैं, कुछ की आ रही हैं। आईआईटी जेईई की मैन्स तो मार्च अप्रैल मई में होंगी। नीट की परीक्षा का समय भी शीघ्र घोषित किया जायेगा। इस थोड़े से समय में पूरा कोर्स पढ़ना है। परीक्षा प्रारंभ अथवा होने वाले दिन से एक सप्ताह पहले तक पूरी तैयारी कर लेना है। अंतिम एक सप्ताह मात्र रिवीजन ही करना है। पूरे कोर्स को जितने दिन शेष हैं, उसमें प्रत्येक दिन के लिए निर्धारित कर लीजिए कि किस किस दिन क्या क्या पढ़ना है, ताकि परीक्षा से एक सप्ताह पहले पूरा कोर्स समाप्त हो जाए। प्रत्येक दिन मूल्यवान है।

मान लीजिए कि रीट की तैयारी 1 मार्च से प्रारंभ करना है, तो आपके पास 1 मार्च से 17 अप्रैल तक मात्र 48 दिन का समय निश्चित है। प्रत्येक दिन इस प्रकार पढ़ाई कीजिए कि 17 अप्रैल तक पूरा कोर्स समाप्त हो जाए एवम 18 से 24 अप्रैल तक एक सप्ताह का समय रिवीजन के लिए मिल जाए। इसी प्रकार बोर्ड परीक्षा एवम अन्य परीक्षा के उम्मीदवारों को भी अपना प्रतिदिन का टाइम टेबल बना कर उस पर अमल करना चाहिए। रात्रि में सोने से पहले अपना स्वयं का मूल्यांकन कर सुनिश्चित करना चाहिए कि आज का निर्धारित कोर्स पूरा हो गया है। तभी समय से पूरा कोर्स समाप्त हो सकेगा। 1 मार्च से पढ़ाई प्रारंभ करने वाले सीबीएसई के विद्यार्थियों के पास 57 दिन का समय है। आरबीएसई के विद्यार्थियों के पास 59 दिन का समय है। याद रखिए इस बीच आपका स्वयं का जन्मदिन आ रहा है अथवा परिवार में किसी सदस्य का जन्म दिन है अथवा और कोई कार्यक्रम है अथवा 29 मार्च को होली है अथवा अन्य कोई त्योहार है, उस दिन भी आपको तो पढ़ना है ही, वरना कोर्स पूरा नहीं हो सकेगा। परीक्षा का कार्यक्रम निश्चित है। आपके जन्मदिन त्योहार से आपका स्वयं का नुकसान होगा। स्वयं ही चिंतन मनन करना होगा कि इस समय आपके लिए त्योहार आवश्यक है अथवा पढ़ाई कर आत्मनिर्भर बनना। निर्णय आपका है। मैं मात्र आपको सजग सतर्क सावधान जागरूक कर रहा हूं। आप स्वयं अपना निर्णय लेने में स्वतंत्र हैं। समय लौट कर नहीं आएगा। निर्णय आपका है कि समय का पूरा सदुपयोग करना है अथवा अगले वर्ष एवं हर बार फॉर्म ही भरते रहना है। विवेक से सकारात्मक निर्णय लीजिए एवम सफल होने पर दिलीप अंकल को भी मिठाई भेजिए।

सेवानिवृत्त परमाणु वैज्ञानिक अधिकारी परमाणु बिजली घर रावतभाटा राजस्थान।

Related posts

Leave a Comment