चंद्रशेखर आज़ाद

प्रीति शर्मा “असीम” शिक्षा वाहिनी समाचार पत्र।

अपना नाम
आजाद
पिता का नाम
स्वतंत्रता बतलाता था।
 जेल को ,
अपना घर कहता था।
भारत मां की,
जय -जयकार लगाता था।
भाबरा की ,
माटी को अमर कर।
उस दिन भारत का ,
सीना गर्व से फूला था ।
चंद्रशेखर आज़ाद के साथ ,
वंदे मातरम्
भारत मां की जय
देश का बच्चा-बच्चा बोला था।
जलियांवाले बाग की कहानी,
फिर ना दोहराई जाएगी ।
फिरंगी को ,
देने को गोली आज़ाद ने ,
कसम देश की खाई थी ।
भारत मां का,
जयकारा  उस समय ,
जो कोई भी लगाता था ।
फिरंगी से वो तब,
बेंत की सजा पाता था ।
कहकर  आजाद
खुद को भारत मां का सपूत ,
भारत मां की,जय -जयकार बुलाता था।
 कोड़ों  से छलनी सपूत वो
 आजादी का सपना,
 नहीं भूलाता था।
अंतिम समय में ,
झुकने ना दिया सिर ,
बड़ी शान से ,
मूछों को ताव लगाता था।
हंस कर मौत को गले लगाया था।
आज़ाद
आज़ादी के गीत ही गाता था।।
नालागढ़, हिमाचल – पंजाब

Related posts

Leave a Comment