श्रीराम कॉलेज के राष्ट्रीय सेवा योजना के विशेष शिविर के चतुर्थ दिन चलाया स्वरोजगार सरकारी योजना जागरूकता अभियान

शि.वा.ब्यूरो, मुज़फ्फरनगर। आज श्रीराम कॉलेज की राष्ट्रीय सेवा योजना इकाई के सात दिवसीय विशेष शिविर के चतुर्थ दिवस का आयोजन लक्ष्य गीत के माध्यम से गांव खेड़ी विरान बहादरपुर में किया गया। शिविर में स्वयंसेवकों ने ग्रामीणों को उनके घर-घर जाकर स्वरोजगार संबंधित सरकारी योजनाओं के प्रति जागरूक किया और उन्हें जीवन में आत्मनिर्भर बनने के लिए प्रेरित किया।
प्राथमिक विद्यालय बहादरपुर में स्पोर्ट्स ए वे ऑफ लाइफ नामक संस्था द्वारा चलाए जा रही खेल प्रतियोगिता में स्वयंसेवकों ने सहयोग कर खेल का आयोजन कराया, जिसमें लंबी कूद, दौड़ तथा गोला फेंक इत्यादि खेल आयोजित हुए। शिविर में आज के मुख्य अतिथि श्री राम कॉलेज की प्राचार्य डॉ. प्रेरणा मित्तल रही, जिन्होंने स्वयंसेवकों को बताया कि वास्तव में स्वावलम्बन या आत्मनिर्भरता ही मनुष्य को स्वाधीन बनने की प्रेरणा देती हैं। आत्मनिर्भरता की स्थिति में व्यक्ति इच्छाओं को अपनी सुविधानुसार पूरा कर पाता है। उसे इसके लिए दूसरों के सहयोग की आवश्यकता नहीं पड़ती हैं। कार्यक्रम अधिकारी अंकित कुमार ने बताया कि आत्मनिर्भरता से ही मनुष्य प्रगति कर सकता हैं। आत्मनिर्भर व्यक्ति ही अपने एवं अपने परिवार का भरण पोषण करने में सक्षम होता हैं। बैसाखी के सहारे चलने वाले व्यक्ति की यदि बैसाखी छिन ली जाए तो वह चलने में असमर्थ हो जाता हैं। ठीक यही स्थिति दूसरों के सहारे जीने वाले लोगों की भी होती है।


इसके पश्चात शिविर में उपस्थित शारीरिक विभाग प्रवक्ता भूपेंद्र कुमार ने बताया की मनुष्य अपने जीवन में सुख की प्राप्ति के लिए हर प्रकार के साधन जुटाना चाहता हैं। इसके लिए उसे स्वयं परिश्रम करने की आवश्यकता पड़ती हैं जिसमें खेल एवं व्यायाम भी परिश्रम का एक अभिन्न अंग माना जाता है, क्योंकि खेल द्वारा मनुष्य शरीर का विकास होता है, जिससे मनुष्य जीवन की प्रत्येक गतिविधि को सुचारू रूप से समझने लगता है।
शिविर में शारीरिक प्रशिक्षु सरिता, विपुल एवं हितेंद्र तथा स्वयंसेवक रिया गोयल, हर्ष सैनी, मोनिश, कुनाल, जावेद, अंशिका, अमन त्यागी तथा अजय कुमार और खिलाड़ी एकता, आशु, अनु, अर्शी, उजमा, महाविश इत्यादि का महत्वपूर्ण योगदान रहा।

Related posts

Leave a Comment