श्री राम कॉलेज आफ फार्मेसी में एक दिवसीय मॉक ड्रिल आयोजित

शि.वा.ब्यूरो,  मुज़फ्फरनगर। श्री राम कॉलेज आफ फार्मेसी में एक दिवसीय मॉक ड्रिल का आयोजन किया गया, जिसमें विद्यार्थियों को आग से बचाव के विषय में आधारभूत जानकारी दी गई। इस माॅक ड्रिल में महाविद्यालय के विद्यार्थियों और श्री राम काॅलेज की शिक्षक-शिक्षिकाओं ने भी प्रतिभाग किया। कार्यक्रम की शुरुआत फायर फाइटिंग प्रयोगशाला से हुई, जिसमें अभ्यार्थियों को आग लगने के कारण तथा आग लगने से उत्पन्न आपातकालीन परिस्थितियों से निपटने के विषय में संपूर्ण जानकारी दी गई। इसके साथ ही विद्यार्थियों को प्रयोगात्मक तरीके से आग लगाकर विभिन्न माध्यमों जैसे अग्निशमन यन्त्र, पानी, बालू आदि का प्रयोग द्वारा आग पर काबू पाने का प्रशिक्षण दिया गया।
श्रीराम काॅलेज ऑफ फार्मेसी के निदेशक डाॅ0 गिरेन्द्र कुमार गौतम ने बताया कि माॅक ड्रिल के अंतर्गत आग लगने के कारणो को दो भागो मे बांटा गया। प्रथम भाग के अंतर्गत रबर, कपडे, कागज इत्यादि से लगने बाली आग पर कैसे काबू पाया जा सकता है, के सम्बन्ध में अभ्यार्थियों का बताया कि इस तरह की आग हम पानी द्वारा आसानी से बुझा सकते है। दूसरे चरण मे छात्रो को तरल पदार्थ व बिजली से लगनी वाली आग को कैसे काबू कर सकते है, के सम्बन्ध में बताया कि बिजली उपकरण, कम्प्यूटर, शाॅर्ट सर्किट आदि से लगने वाली आग को पानी से नही बुझाया जा सकता है। इसके लिए अग्निशमन यन्त्र अथवा बालू का उपयोग किया जाता है। अग्निशमन यत्र के विषय में विद्यार्थियों को बताया गया कि यह एक विशेष प्रकार का यंत्र है जो आग पर काबू पाने के लिए विभिन्न सार्वजनिक स्थलों जैसे संस्थान, शाॅपिंग माॅल, स्कूल-काॅलेजो, सिनेमाघरों आदि मे उपलब्ध रहता है। यह इलैक्टिोनिक उपकरणो द्वारा लगी आग के चारो तरफ एक कार्बनडाई ऑक्साइड का घेरा बना लेता है जोकि देखने मे धुए जैसा लगता है।


डाॅ0 गिरेन्द्र कुमार गौतम ने छात्रों को माॅक ड्रिल अभियान के बारे में बताते हुए कहा कि इस प्रकार के कार्यक्रम सभी कॉलेजों में होते रहने चाहिए। इससे छात्रों को बहुत से रोचक तथ्यों के साथ-साथ किसी भी प्रकार की विकट परिस्थिति में अपने जीवन की रक्षा कर सकते हैं। साथ ही इस प्रकार के अभियान एक प्रकार से आत्मनिर्भर समाज को जन्म देते हैं।
कार्यक्रम मे मुख्य रूप से असि0 प्रो0 छवि गुप्ता, श्वेता पुडिर, सोनू, टिंकू कुमार, रोहित मलिक, रोहिनी गुप्ता, आरती चोपडा, निकुंज कुमार, गौरव महरोत्रा, विकास कुमार, अजय कुमार, रामदत्त शर्मा, सलमान, उज्जवल शर्मा, शिवम त्यागी, रवि कुमार, शफकत जैदी, साबिया परबीन, अतुल राणा आदि का सराहनीय योगदान रहा।

Related posts

Leave a Comment