श्रीराम कॉलेज की राष्ट्रीय सेवा योजना इकाई के विशेष शिविर का दूसरा दिन, 50 स्वयंसेवकों ने सफाई अभियान चलाया

शि.वा.ब्यूरो, मुज़फ्फरनगर। श्रीराम कॉलेज की राष्ट्रीय सेवा योजना इकाई के सात दिवसीय विशेष शिविर के द्वितीय शिविर का आयोजन लक्ष्य गीत के माध्यम से गांव खेड़ी विरान बहादरपुर में किया गया। शिविर में आज लगभग 50 स्वयंसेवकों ने प्रतिभाग किया और गांव के मार्गो एवं रविदास मंदिर में साफ सफाई कर श्रमदान किया। स्वयं सेवकों ने गांव वालों को साफ सफाई के प्रति जागरूक भी किया। इस अवसर पर देशभक्ति गीत एवं एवं सफाई संबंधी नाटक प्रस्तुत किए गए।
शिविर में बतौर मुख्य अतिथि श्रीराम कॉलेज के निदेशक डॉ आदित्य गौतम ने स्वयंसेवकों को बताया कि साफ-सफाई ऐसी कोई बात नहीं है, जो हमें किसी के कहने पर ही करना चाहिए। ये एक अच्छी आदत है और स्वस्थ बने रहने का एक मात्र तरीका है। उन्होंने कहा कि स्वस्थ रहने के लिए सभी प्रकार की साफ-सफाई बहुत ही आवश्यक है, जैसे- व्यक्तिगत साफ-सफाई, अपने आस-पास की सफाई, वातावरण की सफाई, अपने घर के पालतू जानवरों की सफाई (स्कूल. कॉलेज, हॉस्पिटल इत्यादि) या अपने कार्य क्षेत्र की सफाई और आगे कहा कि हमें साफ-सफाई से जुड़ीं सभी बातों और निर्देशों से अवगत रहना चाहिये। साफ-सफाई को अपने नितदिन के दिनचर्या में जोड़ना बहुत ही आसान है बस हमें एक दृढ़ संकल्प लेने की आवश्यकता है।


श्रीराम कॉलेज के वाणिज्य विभाग प्रवक्ता पूजा चौधरी ने बताया कि सफाई हर किसी को अच्छी लगती है, लेकिन करना कोई नही चाहता। इसके विपरीत हम गंदगी ज्यादा बढ़ाते हैं। स्वच्छता पुण्य का काम है, जिसे जीवन का स्तर बढ़ाने के लिये, एक बङी जिम्मेदारी के रुप में हर व्यक्ति को इसका अनुसरण करना चाहिये। हमें पेड़ों को नहीं काटना चाहिये और पर्यावरण को स्वच्छ बनाए रखने के लिये पेड़ लगाना चाहिये। कार्यक्रम अधिकारी ने बताया कि अगर हम स्वच्छ और सुंदर माहौल में न रहें तो हमें गंदगी से अनेक प्रकार की बीमारियों और परेशानियों का सामना करना पड़ता है, जिसके लिए हम खुद जिम्मेदार होते हैं। हम सभी यही सोचते हैं कि अपने घर और आस-पास की सफाई रखें लेकिन सफाई करने के बाद कूड़े-कचरे को इधर-उधर फेंक देते हैं।
शिविर में शारीरिक प्रशिक्षु सरिता एवं हितेंद्र तथा स्वयंसेवक भास्कर, हरीश पाल, हर्षित, विशाल, तेजस्विनी, तनवी शर्मा विशाल कुमार, सेटू कुमार, तबिश, स्नेहा पांडे, फराज अहमद, अमन त्यागी तथा अजय कुमार इत्यादि का महत्वपूर्ण योगदान रहा।

Related posts

Leave a Comment