महिला व बाल अधिकारों के प्रति सजग है योगी सरकार, जनपद स्तर पर दो कार्य योजना एक मार्च से

शि.वा.ब्यूरो, मुजफ्फरनगर। उत्तर प्रदेश की महिलाओं, बालिकाओं की सुरक्षा, सम्मान व स्वतवालंबन के साथ बाल अधिकारों के प्रति प्रतिबद्ध योगी सरकार की नीतियों से उनको सीधा लाभ मिल रहा है। उत्तर प्रदेश में मुख्यामंत्री योगी आदित्यउनाथ के वृहद अभियान मिशन शक्ति के तहत महिला कल्याण विभाग की ओर से बाल विकास सेवा एवं पुष्टाहार विभाग के संयुक्त  तत्वाधान में एक मार्च से जनपद स्तर पर दो कार्य योजनाओं का निर्माण किया जाएगा, जिसके तहत जनपद स्तर पर एक ओर महिलाओं व किशोरियों के लिए ‘सशक्तिकरण व बाल विवाह उन्मूलन’ व दूसरी ओर बाल अधिकारों के लिए ‘बाल संरक्षण कार्ययोजना’ की शुरूआत की जाएगी। जो वार्षिक अभिसरण कार्ययोजना होगी।


मिशन शक्ति के तहत जहां एक ओर मुख्यनमंत्री योगी आदित्यीनाथ महिलाओं व बच्चों  की आवाज को बुलंद कर रहे हैं तो वहीं दूसरी ओर प्रदेश में महिलाओं व बच्चों के बहुमुखी विकास के लिए सुविधाओं में इजाफा करते हुए नई योजनाओं का विस्तार भी कर रहें हैं। इस दिशा में बाल अधिकारों, शिक्षा व सेहत पर लगातार काम करने वाली योगी सरकार तिरस्कृत संवासियों की सुविधाओं में इजाफा करने के साथ नवीन  बालगृहों के निर्माण व उनमें डिजिटल शिक्षा को बढ़ावा देने का काम तेजी से कर रही है।


प्रदेश में बाल निराश्रित संवासियों के लिए चलाई जा रही कल्याणकारी योजना स्पांसरशिप, फोस्टर केयर से उनको लाभ मिल रहा है। प्रदेश में बाल संरक्षण सेवाओं के तहत निराश्रित संवासियों को सुविधाएं प्रदान करने संग उनको उनके अधिकारों के प्रति जागरूक करने की दिशा में तेजी से प्रदेश सरकार कार्य कर रही है। साल 2019-2020 में 271 बालकों को दत्त क गृहण के जरिए पुर्नवासित किया गया। इसके साथ ही अपने परिवार से बिछड़े 6,800 से अधिक बालकों को उनके परिवार से मिलाया गया। साल 2020 से जनवरी माह 2021 तक जहां प्रदेश के 961 संवासियों की घर वापसी कराई गई। वहीं संप्रेक्षण गृह के लगभग 2,822 संवासियों को कानूनी प्रक्रिया के जरिए घर भेजा गया।


बाल कल्यािण समिति की सदस्य डाॅ0 संगीता शर्मा ने बताया कि प्रदेश में मिशन शक्ति हेल्पलाइन से पीड़ति महिलाओं, किशोरियों समेत बाल अपराधों के विरूद्ध आवाज बुलंद हुई है। योगी सरकार द्वारा प्रदेश में संचालित कल्याणकारी योजनाओं व विभागों की जानकारी इस अभियान के जरिए उन तक सीधे तौर पर पहुंचाई जा रही है। प्रदेश में अभियान के तहत जागरूकता कार्यक्रम, हेल्पालाइन नंबर सेवा से लोगों में जागरूकता बढ़ी है व महिलाओं को साहस भी मिला है। उन्होंने बताया कि मिशन शक्ति हेल्पलाइन की समीक्षा बैठक का आयोजन शुक्रवार को किया जाएगा।

Related posts

Leave a Comment