हेलमेट बोझ नहीं, सुरक्षा कवच

डॉ. शंभू पवार, चिड़ावा। जिला पुलिस अधीक्षक मनीष त्रिपाठी ने कहा सड़क सुरक्षा माह मनाने का उद्देश्य आम जन को सड़क सुरक्षा के तरीकों ओर नियमों को समझाना व जागृति पैदा करना है, ताकि सड़क दुर्घटनाओं पर अंकुश लग सके। उन्होंने छात्र छात्राओं से कहा कि वेअपने मम्मी-पापा को बिना हेलमेट दुपहिया वाहन नहीं चलाने दे। हेलमेट बोझ नहीं, सुरक्षा कवच है।
 झुन्झुनू जिला पुलिस अधीक्षक आज जिला परिवहन विभाग व जिला प्रशासन द्वारा आयोजित राष्ट्रीय सड़क सुरक्षा माह के समापन पर न्यू राजस्थान स्कूल में आयोजित समारोह में बोल रहे थे। समारोह की अध्यक्षता जिला परिवहन अधिकारी डॉ. मक्खन लाल जांगिड़ ने की। बतौर विशिष्ठ अतिथि जिला पर्यावरण सुधार समिति के सचिव राजेश अग्रवाल को ओंकारमल जांगिड़, रोहतास भगासरा, गजेंद्र सिंह कार्यक्रम प्रभारी राकेश खारिया, इंजीनियर पीयूष ढुकिया थे। कार्यक्रम प्रभारी राकेश खारिया व  संयोजक डॉ भावना शर्मा ने बताया सड़क सुरक्षा माह के अंतर्गत विभाग द्वारा ऑनलाइन कविता, गीत, भाषण, चित्रकला, रंगोली, स्लोगन प्रतियोगिताएं आयोजित की गई। प्रतियोगिता में विशेष उत्कृष्ट प्रदर्शन विहान तुलस्यान और ओजस गजराज का रहा। प्रतियोगिता के निर्णायक मंडल में राजेश हिरण जयपुर, प्रोफेसर डॉ सुमन मौर्य, प्रोफेसर सुश्री पूनम शर्मा, डॉक्टर शैलजा, जाकिर अब्बासी गायक थे।
 कार्यक्रम में अतिथियों ने सड़क सुरक्षा माह में सहयोग करने वाले प्रबुद्धजनों समाजसेवी हुक्मीचंद लाम्बिवाला, डॉक्टर शंभू पवार अंतरराष्ट्रीय अवार्डी, रामगोपाल महमिया, शिवचरण पुरोहित, ख्वाजा आरिफ, ममता शर्मा, सपना राणासरिया, संगीता आर्य, पारुल अग्रवाल, मुकेश भट्ट एवं प्रतियोगिता के विजेताओं को प्रशंसा पत्र व प्रतीक चिन्ह भेंट कर सम्मानित  किया।  गत 4 वर्ष से जिला परिवहन विभाग के सड़क सुरक्षा कार्यक्रमों को आयोजित करवा रही कार्यक्रम संयोजक शिक्षाविद डॉ भावना शर्मा ने संचालन किया। इस अवसर पर शहर के अनेक गणमान्य जन उपस्थित थे।

Related posts

Leave a Comment