मैं और मेरा परिवार’ की थीम पर कल 2274 आगंनबाड़ी केंद्रों पर मनाया जाएगा गोद भराई दिवस, गर्भवती महिलाओं को दी जाएगी पोषण पोटली

शि.वा.ब्यूरो, मुजफ्फरनगर। जिला कार्यक्रम अधिकारी वाणी वर्मा ने बताया कि कल मंगलवार को “मैं और मेरा परिवार” की थीम पर गोद भराई दिवस का कार्यक्रम 2274 आगंनबाड़ी केंद्रों पर आयोजित किया जाएगा। उन्होने कहा कि जब कोई महिला गर्भवती होती है, तो नए मेहमान के स्वागत की तैयारी में पूरा परिवार जुट जाता है। प्रसव के बाद शिशु के लिए कुछ खास चीजों की जरूरत होती है, जिसे इकट्ठा करने में हर कोई लग जाता है। वहीं, बच्चे के जन्म से पहले कुछ पारंपरिक रस्में भी निभाई जाती हैं, जिनमें से एक है गोद भराई। इसी क्रम में बाल विकास एवं पुष्टाहार विभाग की ओर से गर्भवती महिलाओं की पूरी देखरेख करने के लिए गोद भराई दिवस आयोजित किया जाता है। इस बार यह दिवस मंगलवार (नौ फरवरी) को “मैं और मेरा परिवार” की थीम पर मनाया जाएगा, जिसके तहत गर्भवती महिलाओं को पोषण पोटली भी दी जाएगी।  पोषण पोटली में गुड़, चना, सहजन, हरी पत्तेदार सब्जियां, फल, आयरन की गोलियां आदि रहेंगी।
उन्होने बताया कि गोद भराई दिवस पर गर्भावस्था के प्रथम त्रैमास में चिह्नित महिलाएं आंगनबाड़ी केंद्रों पर आमंत्रित की गयी हैं। कार्यक्रम में गर्भवती के साथ उनके पति, सास या परिवार के अन्य सदस्य, आशा तथा स्वयं सहायता समूह के सदस्य को आमंत्रित किया गया है। इस दौरान कार्यक्रम आयोजित कर गर्भवती और उनके अभिभावकों को योजनाओं के बारे में जानकारी दी जाएगी। गर्भवती महिलाओं को पोषण पोटली उपहार के रूप में दी जाएगी। इसमें गुड़, चना, सहजन, हरी पत्तेदार सब्जियां, फल, पोषाहार, आयरन की गोलियां आदि होंगी। इनका प्रतिदिन सेवन करने के लिए उन्हें प्रोत्साहित किया जाएगा। मौसमी फलों व सब्जियों के सेवन से होने वाले पोषण लाभ के प्रति महिलाओं को जागरूक किया जाएगा। महिलाओं के परिजनों को घरों में पोषण वाटिका का निर्माण कराने की सलाह दी जाएगी। उन्होंने बताया कि आंगनबाड़ी केंद्र के तहत आने वाली सभी गर्भवती महिलाओं का चिन्हांकन व पंजीकरण गर्भावस्था के प्रथम त्रैमास में ही किया जाना आवश्यक है। महिलाओं को प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना, जननी सुरक्षा योजना, मातृ शिशु सुरक्षा कार्ड, प्रसव पूर्व देखभाल, एनीमिया की रोकथाम व पौष्टिक आहार के संबंध में जानकारी दी जाती है।

Related posts

Leave a Comment