मुक्तक

डॉ अवधेश कुमार “अवध”, शिक्षा वाहिनी समाचार पत्र।

कयामत की देवी कयामत न ढाहो,
कयामत से दुनिया बिखर जाएगी।
कयामत खिलाफतत बगावत अदावत,
करोगे तो दुनिया ये मर जाएगी।
चलो साथ मिलकर ये दुनिया बचायें,
बचायें प्रकृति और पावन जहाँ को-
अवध सर्वदा साथ मिलकर रहें तो,
बिखरती ये दुनिया निखर जाएगी।।
मैक्स सीमेंट, ईस्ट जयन्तिया हिल्स मेघालय

Related posts

Leave a Comment