उम्मीद

डॉ. अवधेश कुमार “अवध”, शिक्षा वाहिनी समाचार पत्र।

उम्मीदों के भँवर जाल में फँसकर मानव,
सपनों के अगणित तानों को तुड़प रहा है।
चंचल इन्द्रिय पर संयम के अंकुश डाले,
हृदि सरगम में प्रिय गानों को तुड़प रहा है।
द्वेष दम्भ माया मद मत्सर दुर्विचार पर,
दुनिया में नव सृजन कराती भी उम्मीदें-
उम्मीदों से होता जीवन का सब किसलय,
उम्मीदों  से  हर दानों को तुड़प रहा है।।
मैक्स सीमेंट, ईस्ट जयन्तिया हिल्स मेघालय

Related posts

Leave a Comment