हेल्प इंडिया हेल्प फाउंडेशन किसानों को प्रदान कर रही नि:शुल्क मार्गदर्शन

शि.वा.ब्यूरो, बदायूँ। हेल्प इंडिया हेल्प फाउंडेशन भारत सरकार के ट्रस्ट अधिनियम के अंतर्गत एक स्वायतशासी संगठन है, जो भारत के विकास में पशुपालन, कौशल विकास व स्वरोजगार परियोजनाओं के माध्यम से सक्रिय भूमिका निभा रहा है। संस्था कृषि बागवानी, पशुपालन, मत्सय पालन, महिला स्वरोजगार, युवाओं हेतु कौशल विकास, सूक्ष्म तथा लधु उधोगों की स्थापना के द्वारा ग्रामीण विकास की गतिविधियों में सलंग्न है।
हेल्प इंडिया हेल्प फाउंडेशन के चेयरमेन लवकुश पटेल ने बताया कि कृषि भारतीय अर्थव्यवस्था का आधार स्तंभ है और लगभग सत्तर प्रतिशत ग्रामीण भारत कृषि पर निर्भर है। भारत की कुल जीडीपी में सत्तरह प्रतिशत योगदान कृषि क्षेत्र का है तथा साठ प्रतिशत व्यक्तियों को इससे रोजगार मिलता है, परंतु अभी भी ग्रामीण क्षेत्रों मे कृषि व कृषि आधारित अन्य क्षेत्रों में नवीन तकनीक का उपयोग सीमित है। उन्होंने बताया कि प्रधानमंत्री मोदी नित भारत सरकार ने अगले पाँच बर्ष में दस हजार कृषि उत्पादक संगठन बनाने का लक्ष्य रखा है। उत्तर प्रदेश सरकार ने किसानो के कल्याणार्थ प्रत्येक ब्लॉक में कम से कम एक एफपीओ बनाने का लक्ष्य रखा है। एफपीओ किसानों द्वारा किसानों के लाभ के लियें बनायें गये संगठन हैं, जो कृषि क्षेत्र में कार्य करते हैं। उनका रजिस्ट्रेशन भारत सरकार के कंपनीज एक्ट के अंतर्गत होता है, इससे किसान बीज खाद कृषि उपकरण इत्याद का समूहिक रुप से लाभ ले सकेंगे।
लवकुश पटेल ने बताया कि हेल्प इंडिया हेल्प फाउंडेशन किसानों के बीच एफपीओ के बारे में प्रचार-प्रसार एफपीओ बनाने तथा सुचारु रुप में चलाने हेतु उन्हें निशुल्क मार्गदर्शन प्रदान करती है। कृषि एंव कृषि संवधित क्षेत्रों में ग्रामीण स्तर पर लोगो को उधमी बनाने के लियें प्रेरित करती है। ग्रामीण भारत की जीवन की गुणवत्ता सुधार लाने हेतु राष्ट्रीय प्रयासों की दिशा में किसानों तथा उनके परिवारों की महिलाओं मे जागरूकता प्रशिक्षण व कौशल विकास के द्वारा विकास की गतिविधियों में शामिल एंव कौशल तथा उनकी आर्थिक दशा को सुदृढ़ बनाना हेल्प इंडिया हेल्प फाउंडेशन का ध्येय है।

Related posts

Leave a Comment