फरवरी माह के प्रथम मंगलवार 02 फरवरी, को मासिक वजन दिवस का आयोजन हो: मुख्य विकास अधिकारी आलोक यादव 

शि.वा.ब्यूरो, मुजफ्फरनगर। मुख्य विकास अधिकारी आलोक यादव ने बताया कि राज्य पोषण मिशन उत्तर प्रदेश के  निदेशक द्वारा आंगनबाड़ी केन्द्रों पर माह फरवरी एवं मार्च में आयोजित होने वाली गतिविधियों का कलेन्डर उपलब्ध कराया गया है तथा प्रथम बुधवार को स्वास्थ्य उपकेन्द्र में वीएचएसएनडी पर सैम/मैम एवं अतिकुपोषित बच्चों के स्वास्थ्य एवं पोषण प्रबन्धन के संबंध में विभिन्न दिशा निर्देश निर्गत करते हुये आंगनबाड़ी कार्यकत्री, मुख्य सेविका, बाल विकास परियोजना अधिकारी एवं जिला कार्यक्रम अधिकारी की भूमिका निर्धारित की गयी है।
विकास भवन सभाकक्ष में मुख्य विकास अधिकारी आलोक यादव की अध्यक्षता में समस्त बाल विकास परियोजना अधिकारियों तथा मुख्य सेविकाओं की बैठक आयोजित की गयी। उन्होने निर्देश दिये कि समस्त बाल विकास परियोजना अधिकारियों एवं मुख्य सेविकाओं को फरवरी माह के प्रथम मंगलवार 02 फरवरी, को मासिक वजन दिवस का आयोजन करते हुये 0 से 5 वर्ष के समस्त बच्चों का वजन कराने तथा चिन्हित सैम-मैम, अतिकुपोषित व कुपोषित बच्चों की सूची संबंधित आशा, एएनएम तथा प्रभारी चिकित्साधिकारी के साथ साझा की जायेगी ताकि 03 फरवरी को उपकेन्द्रों पर आयोजित वीएचएसएनडी पर एएनएम द्वारा चिन्हित सैम-मैम बच्चों का सत्यापन एवं चिकित्सीय प्रबंधन सुनिश्चित किया जा सके।
मुख्य विकास अधिकारी द्वारा आंगनबाड़ी कार्यकत्रियों को चिन्हित व सत्यापित सैम, मैम, अतिकुपोषित बच्चों के पोषण प्रबधंन व नियमानुसार मासिक पोषाहार(ड्राई राशन) वितरण तथा साप्ताहिक गृहभ्रमण एवं फाॅलोअप  तथा निदेशालय, बाल विकास सेवा एवं पुष्टाहार उ0प्र0 लखनऊ द्वारा आपूर्तित ग्रोथ मोनिटरिंग डिवाइस ( वजन मशीन , स्टेडियोमीटर व इन्फेन्टोमीटर) का उपयोग करने के निर्देश दिये गये।  सैम बच्चों के चिन्हिकरण के दौरान मोबाइल नम्बर अनिवार्य रूप से अंकित करने के निर्देश दिये गये ताकि क्रास चैकिंग करायी जा सके। समस्त आंगनबाड़ी कार्यकत्रियों-सहायिकाओं को अवगत कराने के निर्देश भी दिये गये।
बैठक के दौरान उपस्थित डीईआईसी मैनेजर एवं समस्त आरबीएसके टीम को निर्देशित किया गया कि एएनएम उपकेन्द्रों पर सत्यापित सैम बच्चों का चिकित्सकीय परीक्षण करते हुए प्रोटोकाॅल के अनुसार पोषण पुनर्वास केन्द्र पर सन्दर्भित करें। पोषण पुनर्वास केन्द्र की प्रभारी डाॅ0 आरती को प्रत्येक सप्ताह पोषण पुनर्वास केन्द्र आने वाले तथा भर्ती बच्चों का विवरण जिला कार्यक्रम अधिकारी को उपलब्ध कराने के निर्देश दिये गये।

Related posts

Leave a Comment