आईपीएस अफसर आदित्य प्रकाश वर्मा ने गणतंत्र दिवस पर फिर पेश की देशभक्ति व मानवता की अनुपम मिशाल


शि.वा.ब्यूरो, कासगंज। बरसों सीएम योगी की कर्मस्थली गोरखपुर में बतौर एसपी यातायात अपनी काबलियत का लोहा मनवाने वाले आईपीएस अफसर आदित्य प्रकाश वर्मा अपनी मानवीय कार्यशैली के लिए पुलिस विभाग ही नहीं, बल्कि आमजन में जाने जाते हैं। वे जाने-अंजाने स्वभावतः अचानक ऐसा कुछ कर जाते हैं कि उनपर गर्व करने को जी चाहता है। आज का वाकिया भी कुछ ऐसा ही है।
आज जब पूरा देश हर्षोल्लास और जोश के साथ 72वाँ गणतंत्र दिवस मना रहा है और देशभर से गणतंत्र दिवस पर अलग-अलग तस्वीरे सामने आई है। ऐसे में उत्तर प्रदेश के कासगंज से एक ऐसी तस्वीर सामने आई है, जो अपने आपमे मानवता की नयी कहानी बयां कर रही है। तस्वीर कुछ ऐसी है, जो अब से पहले आमजन के मन में बसी पुलिस की बर्बर तस्वीर को ही उलट देगी। अक्सर लोगों को लगता है कि आईपीएस अधिकारी की लाइफ स्टाइल पूरी अलग होती है और आईपीएस अधिकारी से मिलना और मिलकर बात करना मुश्किल होता है, लेकिन कई एक ऐसे आईपीएस अधिकारी हैं, जो अपराधियों के लिए अगर मुसीबत हैं तो आमजन के लिए फरिश्ते सरीखे हैं। ऐसे ही एक आईपीएस हैं आदित्य प्रकाश वर्मा, जो इन दिनों कासगंज जिले में अपर पुलिस अधीक्षक के पद पर तैनात हैं।


हुआ यूं कि आज जब वे गणतंत्र दिवस के अवसर पर अपने कार्यालय पर झंडारोहण करने के बाद किसी अन्य कार्यक्रम के लिए जा रहे थे, तभी रास्ते मे एक मासूम बच्ची दिखी, जो अपने दादा जी के साथ जा रही थी। अदित्य प्रकाश वर्मा ने अपने वाहन को रुकवा कर बच्ची के दादा जी को पहले गणतंत्र दिवस की शुभकामनाएं दी, फिर बच्ची को गोद मे लेकर दुलार किया और उस बच्ची को शुभकामनाएं देते हुए एक राष्ट्रध्वज भेट किया। ये नजारा देखने के लिए सड़क पर भीड़ लग गयी। पूरा दिन जनपद में आईपीएस अफसर आदित्य प्रकाश वर्मा के चर्चे होते रहे। लोगों का कहना है कि कासगंज में ऐसा पहली बार देखने को मिल रहा है कि पुलिस का कोई बडा अधिकारी सीधे जनता से जुड़ाव रखता है। इससे पूर्व भी आदित्य प्रकाश वर्मा सरकारी स्कूल के गरीब बच्चों को गर्म कपडे व चाॅकलेट-टाॅफी आदि अक्सर वितरित करते रहे हैं।
बता दें कि सीएम योगी आदित्यनाथ की कर्मसिटी में पुलिस अधीक्षक यातायात के पद पर रहते हुए आदित्य प्रकाश वर्मा ने अपनी विशिष्ट कार्यशैली के बल पर एक अलग पहचान बनाई थी, जिसको गोरखपुरवासी आज भी याद करते हैं। वर्तमान में बतौर आईपीएस अफसर आदित्य प्रकाश वर्मा ने कासगंज में अपराध और अपराधियों के खिलाफ जंग छेड़ रखी है। अभी हाल ही मंे उन्होंने सदर कोतवाली के सहावर गेट सत्तर बैंड वाली गली में चल रहे सट्टे की खाईबड़ी पर छापा मारा था, जिसमें मोबाइल, केलकुलेटर व सट्टे की पर्चियों सहित 531 रुपये भी बरामद हुए थे।

Related posts

Leave a Comment