बेटियां

रेखा शर्मा, शिक्षा वाहिनी समाचार पत्र।

मेरे किसी सवाल का जवाब हें  बेटियां ।
देश और समाज की खुशियाँ की राज हें बेटियां
जिस पे नाज हें दुनियां जहाँ आज भी ।
वो शान ए शौकत सरताज हें बेटियां ।
दुनिया को जिसने दी है खुशबु  उम्र भर।
जिन्दगी का जिन्दा इतिहास हें बेटियां ।
वफा हर खफा ख्याल हो जिसमें
लक्ष्मी सीता राधा की नाज है बेटियां।
गीत और संगीत का संगम हो जहाँ
हर दर्द ए दिल की दवा है बेटियां।
भ्रूण हत्या से कब तक मारी जाएगी
कोख में बेटियां ।
बहु को जलाने वाले  सोच लो
कब तक बेटियो को जलायेगी बेटियां ।
ऐ जुल्म ,बलात्कार करने वालो
तेरे सर को काट कर चढायेगी बेटियां ।
दुनिया को जिसने  जन्म दिया
दुनिया  को राह दिखायेगी  बेटियां
धनबाद, झारखण्ड

Related posts

Leave a Comment