गौ माता की सेवा करना चारों धाम के समान

शि.वा.ब्यूरो, नई दिल्ली। सनातन संस्कृति में गौ माता की सेवा करना सबसे पुनीत कार्य माना जाता है। गौमाता में सभी देवी- देवताओं का वास होता है। इसलिए गौ माता की सेवा करना चारों धाम करने के समान है। उक्त विचार सहकारी समिति के चैयरमेन एवं वरिष्ठ पत्रकार लेखक डॉ शंभू पवार ने आज श्री कृष्ण गौशाला चिड़ावा में व्यक्त किए।

डॉ. पवार ने कहा गौ माता की सेवा करने से घर परिवार में सुख समृद्धि का वास होता है तथा गौ माता की पूजा करने से मन मन मनोवांछित फल की प्राप्ति होती है,जो मनुष्य गौ सेवा कार्य श्रद्धा व विश्वास  से करता है, उसका जीवन सुख समृद्धि साली होता है। गौमाता से पूजा करने से पापों का नाश होता है। डॉ. शंभू पवार आज अपनी माता सुगनी देवी पवार की चौबीसी पुण्यतिथि पर हर वर्ष की भांति चिड़ावा श्री कृष्ण गौशाला में गौ माताओं कोआहार (दलिया व खल ) खिलाया। इस अवसर पर विजय पवार, सुभाष पवार, अभिषेक पवार, पवन- चंदन पवार व नन्ही यशस्वी ने गौ माताओं को आहार खिलाया। उल्लेखनीय है डॉ.शम्भू पवार अपने व अपने परिवार के सदस्यों के जन्मदिवस पर एवं माता पिता की पुण्यतिथि पर गौशाला में गौ माताओं को चारा, दलिया, गुड़, आदि आहार खिलाते है। इस अवसर पर श्री कृष्ण गौशाला के अध्यक्ष एवं प्रमुख समाजसेवी परशुराम सूरज गढ़िया, आर भारद्वाज, अशोक कुमार, मदनलाल ने डॉक्टर पवार का इस पुनीत कार्य के लिए आभार व्यक्त किया।

Related posts

Leave a Comment