शिक्षा सत्र बीतने को है, लेकिन नहीं मिले बेसिक स्कूलों के बच्चों को जूते-मोजे

शि.वा.ब्यूरो, लखनऊ। शिक्षा सत्र बीतने को है, लेकिन प्राइमरी स्कूलों के विद्यार्थियों को अभी तक जूते-मोजे नहीं मिले हैं। जूते व मोजे बांटने की अंतिम तारीख क्रमश: 25 व 18 जनवरी तय की गई है, लेकिन अभी जिलों तक ये पहुंचे या नहीं। मज़े की बात है कि जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी इसकी सूचना भी अपने विभाग के आला अफसरों को नहीं दे रहे हैं। विभागीय निदेशक सर्वेन्द्र विक्रम बहादुर सिंह ने सभी बीएसए को पत्र लिख कर इस पर तुरंत रिपोर्ट तलब की है।
बता दें कि सरकार 1.50 करोड़ बच्चों को एक जोड़ी जूता व दो जोड़ी मोजा देती है। निदेशक ने बीएसए को भेजे पत्र में लिखा है कि जूते व मोजे के लिए नवम्बर में ही कंपनियों के साथ करार किया गया था। 22 दिसम्बर को जूते-मोजे की सप्लाई, वितरण, टेस्टिंग आदि के लिए निर्देश भेजे गए थे लेकिन अभी तक जूतों का वितरण शुरू नहीं हुआ है। ये स्थिति स्वीकार्य नहीं है। उन्होंने तुरंत रिपोर्ट भेजने के निर्देश दिए हैं।
ज्ञात हो कि प्रदेश के 75 जिलों के लिए लहर फुटवियर्स लिमिटेड को 23 जिले, मंजीत प्लास्टिक इंडस्ट्रीज को 27 जिले,  लैंसर फुटवियर इंडिया प्राइवेट लिमिटेड को 12 जिले और चरणपादुका इंडस्ट्रीज प्रा. लि. को 13 जिलों का जिम्मा दिया गया था। पांच कंपनियों को मोजे की आपूर्ति का ठेका दिया गया था। 31 मार्च को सत्र खत्म हो जाएगा।

Related posts

Leave a Comment