सरकारी स्कूल बना जंग का मैदान, एआरपी-शिक्षक संघ में तनातनी जारी, एक- दूसरे खिलाफ थाने में तहरीर दी


शि.वा.ब्यूरो, मैनपुरी। जनपद का नगला बस्ती प्राथमिक विद्यालय उस समय जंग का मैदान बन गया, जब कथित रूप से पर्यवेक्षण के लिए प्राथमिक विद्यालय पहुंचे एआरपी ने अध्यापक पर अभद्रता करने का आरोप लगा दिया तो अध्यापक ने भी एआरपी पर धन उगाही व शोषण करने का आरोप लगाते हुए थाने में तहरीर दे दी। मामले में उस समय एक नया मोड़ आ गया, जब शिक्षक-एआरपी की जंग में एआरपी के विरुद्ध शिक्षक संघ ने भी ताल ठोकते हुए उसके खिलाफ कार्रवाई की मांग की। इस मामले में जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी विजय प्रताप सिंह का कहना है कि एआरपी शरद यादव ने मुझे फोन कर अपने साथ हुई अभद्रता के बारे में बताया था। दोनों पक्षों के थाने जाने की जानकारी नहीं है। मामले की जांच कर उचित कार्रवाई करेंगे।
बता दें कि परिषदीय विद्यालयों में शिक्षा की गुणवत्ता बढ़ाने के उद्देश्य से प्रशासन द्वारा एकेडमिक रिसोर्स पर्सन ;एआरपीद्ध पद का जन किया है। एआरपी शरद यादव ने थाने में दी गयी तहरीर में कहा है कि वह मंगलवार को प्राथमिक विद्यालय नगला बस्ती में सहयोगात्मक पर्यवेक्षण के लिए गए हुए थे। वहां परिचर्चा कर ही रहे थे कि उसी समय सहायक अध्यापक अभय चैधरी डंडा लेकर आए और सरकारी कार्य में बाधा डालते हुए उनके साथ अभद्रता करने लगे, जब वह उनकी हरकतों को कैमरे में कैद करने लगे तो उन्होंने ने धक्का मारकर मोबाइल छीनने का प्रयास किया।
दूसरी ओर शिक्षक अभय चैधरी ने भी थाने में दी गयी अपनी तहरीर में कहा है कि एआरपी शरद यादव बिना पूर्व सूचना के स्कूल का निरीक्षण करने आये थे। उन्होंने अपनी तहरीर में कहा है कि जिस समय एआरपी स्कूल में आये तो वह किसी काम से पास के ही दूसरे विद्यालय गए थे। इसी बात पर एआरपी ने उन्हें अपमानित करते हुए पैसे की मांग की थी। इसके बाद शिक्षक संघ के ब्लाक अध्यक्ष वैभव यादव ने संगठन के जिला उपाध्यक्ष हेमसिंह यादव, सुदीप पांडे, जैनुल, शिवकुमार, अवनीश यादव, अरविंद सिंह, अशोक कुमार, हरिओम शाक्य, अनुज कुमार, विमल राजपूत, श्यामवीर सिंह, जयप्रकाश, अनुराग दीक्षित, राधारमण, राहुल कुमार, हरेंद्र सिंह आदि शिक्षकों के साथ थाने पहुंचकर एआरपी के खिलाफ पुलिस को तहरीर दी।

Related posts

Leave a Comment