जिलाधिकारी शेषमणि पांडेय की अध्यक्षता में 25 लाख से अधिक लागत के निर्माण कार्यों की मासिक समीक्षा बैठक आयोजित

अनिल कुमार त्रिपाठी, राजापुर चित्रकूट। जिलाधिकारी ने कार्यदायी संस्थाओं के अधिकारियों को निर्देश दिए कि जो भी 50 लाख रुपए से ऊपर के निर्माण कार्य कराए जा रहे हैं उसमें गुणवत्ता का विशेष ध्यान दें और सभी संबंधित विभाग बिना तकनीकी जांच के हैंड ओवर न करें तथा निर्माण कार्य की समय-समय पर गुणवत्ता की जांच अवश्य की जाए। उन्होंने अधिशासी अधिकारी नगर पालिका परिषद कर्वी से कहा कि रामघाट में चेंजिंग रूम जो बनाए गए हैं उनकी गुणवत्ता ठीक नहीं है कार्य को गुणवत्ता पूर्ण कराया जाए तथा पावन चित्रकूट, मनभावन चित्रकूट का एक जो टैग लाइन बनाई गई है जिसमें स्वच्छता को देखते हुए जगह-जगह स्लोगन भी लिखाया जाए।उन्होंने संबंधित अधिकारियों को यह भी निर्देश दिए कि क्रिटिकल गैप्स के अंतर्गत जो कार्य कराए जा रहे हैं उनको तत्काल पूर्ण कराकर उपभोग प्रमाण पत्र भी उपलब्ध कराएं जिला विकास अधिकारी से कहा कि जिन कार्यदाई संस्थाओं ने कुछ विकास कार्यों में अभी तक निर्माण कार्य शुरू नहीं किया है उन अधिकारियों का जवाब तलब किया जाए उन्होंने अधिशासी अभियंता लोक निर्माण विभाग अरविंद कुमार को निर्देश दिए कि त्वरित आर्थिक विकास कार्य का जो कार्य अवशेष है उसको तत्काल पूर्ण करा दिया जाए तथा इस कार्य की गुणवत्ता की तकनीकी जांच जो कराई गई है उसमें जो कुछ कमी थी उसको पूर्ण कर रिपोर्ट उपलब्ध कराएं तथा जिन विभागों के कार्यों की तकनीकी जांच की गई है उसकी पत्रावली अर्थ एवं संख्या अधिकारी प्रस्तुत करें।लोक निर्माण विभाग से यह भी कहा कि बेड़ी पुलिया से रामघाट, परिक्रमा मार्ग की ओर जाने वाली सड़क के बीच के डिवाइडर की अच्छी तरह से साफ सफाई कराकर प्लांटेशन कराया जाए जहां पर सड़क की चौड़ाई अतिक्रमण के कारण कम है उसे तत्काल हटाकर पूर्ण कराया जाए तथा चौराहों का सौंदर्यीकरण भी कराया जाए। उन्होंने पर्यटन अधिकारी को निर्देश दिए कि जो पर्यटन विभाग के कार्य पूर्ण हो गए और उन्हें हैंड ओवर कर लिया गया है उसका विवरण साहित्य उपलब्ध कराएं ऋषियन आश्रम के सड़क निर्माण की गुणवत्ता की जांच कराई जाए उन्होंने कहा कि जो नीति आयोग के कार्य होना है उसे भी समय सीमा के अंदर पूर्ण कराएं।
जिलाधिकारी ने रामायण सर्किट, परिक्रमा मार्ग में कवर शेड, राजकीय हाई स्कूल रैपुरा, ऐलहा, मडैयन , चोपड़ा तालाब, फुट ओवर ब्रिज, लक्ष्मण पहाड़ी के कार्य, लेजर शो, डिजिटल रामायण गैलरी, भरतकूप थाना निर्माण, विशिष्ट मंडी निर्माण, अग्निशमन केंद्र मऊ, पशु चिकित्सालय रैपुरा, स्ट्रीट लाइट, राम घाट पर चेंजिंग रूम, राजकीय महाविद्यालय पाही, रामायण सर्किट, बाल संप्रेक्षण गृह, विकास भवन, भरतकूप विकास कार्य, पथ प्रकाश व्यवस्था, पॉलिटेक्निक निर्माण, आदि विभिन्न योजनाओं की बिंदुवार समीक्षा की गई। उन्होंने कार्यदायी संस्थाओं के अधिकारियों को निर्देश दिए कि जो भी विकास कार्य कराए जाएं उसमें गुणवत्ता का विशेष ध्यान दें शासन की मंशा के अनुरूप सभी कार्य गुणवत्ता पूर्ण हो।

बैठक में जिला विकास अधिकारी आरके त्रिपाठी, मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ विनोद कुमार, मुख्य पशु चिकित्सा अधिकारी डॉक्टर के पी यादव,जिला उद्यान अधिकारी डॉ रमेश कुमार पाठक, जिला दिव्यांगजन अधिकारी राजेश कुमार नायक, अधिशासी अधिकारी नगर पालिका परिषद कर्वी नरेंद्र मोहन मिश्र, पर्यटन अधिकारी शक्ति सिंह सहित संबंधित कार्यदाई संस्थाओं के अधिकारी मौजूद रहे।

Related posts

Leave a Comment