विकास खण्ड बघरा, चरथावल एवं खतौली में किसान कल्याण मिशन कार्यक्रम 13 जनवरी को

शि.वा.ब्यूरो, मुजफ्फरनगर। जिलाधिकारी ने बताया कि प्रदेश में किसानो की आय को दोगुना करने का प्रयास किया जा रहा है। इस संकल्प को पूरा करने हेतु यह निर्णय लिया गया है कि प्रदेश में कृषि एवं कृषि आधारित पशुपालन, बागवानी, गन्ना इत्यादि तथा अन्य कृषि आधारित उद्योग को विकसित कर इन गतिविधियों के माध्यम से किसान कल्याण एवं किसान की आमदनी दोगुना करने का एक विशेष अभियान किसान कल्याण मिशन के रूप में चलाया जा रहा है।।
जिलाधिकारी ने निर्देश दिये है कि विकास खण्ड बघरा, चरथावल एवं विकास खण्ड खतौली में किसान कल्याण मिशन कार्यक्रम के अन्तर्गत कार्यक्रम 13 जनवरी को प्रातः 10ः00 बजे से क्रियान्वित किया जायेगा। विकास खण्ड स्तर पर किसान कल्याण मिशन कार्यक्रम के अन्तर्गत आयोजित कार्यक्रम में कृषि मेला एवं कृषि प्रदर्शनी में कृषि कल्याण से सम्बन्धित विभिन्न योजनाओं के बारे में जागरूकता गोष्ठी के साथ-साथ किसानों के कल्याण से जुडे सभी कार्यक्रमों के बारे में कृषकों को जानकारी प्रदान की जायेगी। उन्होने बताया कि कार्यक्रम में कृषि विभाग के साथ-साथ उद्यान, पशुपालन, मत्स्य, सहकारिता, सिंचाई विभाग, लघु सिंचाई, नेडा, विद्युत, ग्राम्य विकास, पंचायतीराज, वन, बाल विकास एवं पुष्टाहार इत्यादि विभाग द्वारा अपनी-अपनी विभागीय योजनाओं में देय सुविधाओं से सम्बन्धित स्टाल लगाये जायेगें।
जिलाधिकारी ने बताया कि कार्यक्रम में कृषि तकनीकी प्रबन्ध अभिकरण(आत्मा) योजनान्तर्गत कृषि एवं सहवर्गी सैक्टर के गठित स्वयं सहायता समूह एवं खाद्य सुरक्षा समूह के द्वारा उत्पादित प्रमुख उत्पादों की प्रदर्शनी भी कार्यक्रम में लगायी जायेगी, इसके अतिरिक्त कार्यक्रम में पराली अवशेष प्रबन्धन मंे उपयोगी यन्त्रों से सम्बन्धित प्रदर्शनी भी लगायी जायेगी। कार्यक्रम में कृषि एवं कृषि से सम्बन्धित विशिष्ट कार्य करने वाले चयनित प्रगतिशील कृषकों को पुरूस्कार/प्रशस्ती पत्र का वितरण तथा लाभार्थी परक योजनाओं के स्वीकृति पत्र, प्रमाण पत्र व कृषि यन्त्र आदि का वितरण जनप्रतिनिधियों के माध्यम से कराया जायेगा। कृषि विभाग से सम्बन्धित विभागीय अधिकारियों एवं वैज्ञानिको के द्वारा कृषकोें को नवीनतम तकनीकी जानकारी प्रदान करने के साथ कृषि एवं कृषि से जुडी तकनीकी समस्याओें का निराकरण भी किया जायेगा। उन्होंने अपील की है कि जनपद के सभी कृषक कार्यक्रम में प्रतिभाग कर नवीनतम उत्पादन तकनीकी जानकारी प्राप्त करने के साथ-साथ कृषि एवं कृषि से सम्बन्धित तकनीकी समस्याओं एवं शकांओं का निराकरण प्राप्त करें।

Related posts

Leave a Comment