एसडी कालेज ऑफ़ इन्जिनियरिंग एण्ड टैक्नोलोजी में नवप्रवेशित छात्र-छात्राओं के लिये ओरिएन्टेसन प्रोग्राम आयोजित

शि.वा.ब्यूरो, मुजफ्फरनगर। एसडी कालेज ऑफ़ इन्जिनियरिंग एण्ड टैक्नोलोजी में बीटेक प्रथम वर्ष में नवप्रवेशित छात्र-छात्राओं के लिये सोशल डिस्टेंसिंग के नियमों को ध्यान में रखते हुये ओरिएन्टेसन प्रोग्राम का आयोजन किया गया। कार्यक्रम का शुभारंभ माँ सरस्वती के समक्ष सम्मानित अतिथि डा0 ए0 कीर्तिवर्धन, राकेश कौशिक, संस्थान के अधिशासी निदेशक-प्रो0 (डा0) एसएन चौहान, प्राचार्य डा0 एके गौतम, डीन डा0 पारेश कुमार व चीफ प्राक्टर डा0 आरटीएस पुंडीर ने दीप प्रज्जवलन कर किया।
इस अवसर पर डा0 ए0 कीर्तिवर्धन ने कहा कि संस्थान में अध्ययन करते हुये अपने चार वर्ष की अवधि में आपको अपना लक्ष्य सदैव याद रखना चाहिये। माता-पिता समाज व राष्ट्र के प्रति अपने दायित्वों को सदैव स्मरण रखना चाहिये लक्ष्य के प्रति समर्पण एवं जागरूकता ही सफलता की कुँजी है। राकेश कौशिक ने नैतिक मूल्यों को जीवन की अमूल्य धरोहर बताते हुये कहा कि युवाओं को महान व्यक्तियों जैसे स्वामी विवेकानन्द, सुभाष चन्द्र बोस, महात्मा गाँधी व डा0 एपीजे अब्दुल कलाम आदि के जीवन चरित्र को पढ़ना चाहिये।


संस्थान के अधिशासी निदेशक प्रो0 (डा0) एसएन चौहान ने बताया कि इंजीनियर्स के लिये अन्तर्राष्ट्रीय कम्पनियों में सर्वाधिक अवसर है, इसलिये कम्यूनिकेशन व तकनीकी ज्ञानार्जन आवश्यक है। उन्होंने कहा कि विद्यार्थी भविष्य की चुनौतियों के लिये तैयार रहें, जिसका समाधान उत्कृष्ट कम्यूनिकेशन, तकनीकी ज्ञान, ईमानदारी, निष्ठा, कड़ी मेहनत व अनुशासन है। सकारात्मक सोच ही सफलता की कुँजी है। डा0 चौहान ने कहा कि अभी भी इन्जिनियरिंग में सर्वाधिक स्कोप है, अवसरों की कमी नही है, बल्कि कमी है तैयारी की। उन्होंने कहा कि कोरोना काल में सतर्कता, सामाजिक दूरी व मास्क जरूरी है। युवाओं को कोविड-19 के कारण पढ़ाई में हुई परेशानी का समाधान निकालना होगा। सभी लक्ष्य केन्द्रित होकर सावधानीपूर्वक पठन-पाठन करें।


कालेज के प्राचार्य डा0 एके गौतम ने छात्र-छात्राओं को अनुशासन, दूर दृष्टि, कड़ी मेहनत व ईमानदारी को सफलता की कुँजी बताया।  उन्होंने कालेज में आने वाली किसी भी प्रकार की समस्या से निबटने के लिये बनाई गई विभिन्न कमेटियों से परिचय भी कराया। डा0 गौतम ने कालेज द्वारा छात्र-छात्राओं के हित में उठाये गये कदमों की जानकारी देते हुए कालेज परिसर में किसी भी प्रकार की रैगिंग या गैर-अनुशासनात्मक गतिविधियों को रोकने के लिये उठाये गये प्रयासों का प्रेजेन्टेशन दिया। छात्र/छात्राओं के मानसिक व शारीरिक विकास के लिये समय-समय पर आयोजित की जाने वाली गतिविधियों के विषय में जानकारी दी गई। कार्यक्रम में कालेज के वरिष्ठ शिक्षकों का भी परिचय कराया गया।
संस्थान के डीन डा0 पारेश कुमार ने एकेडमिक क्यूरिकुलम की महत्वपूर्ण जानकारी देते हुये बताया कि नवप्रवेशित छात्र-छात्राओं को प्रारम्भ में ही पाठ्यक्रम की बारीकियों, आने वाले चैलेन्जेज, पाठ्यचार्य, प्रमोशन स्कीम तथा विश्वविद्यालय व कालेज के विभिन्न नियमों की जानकारी दी जाती है, ताकि छात्र-छात्राऐं तद्नुसार तैयारी कर सके। कार्यक्रम की संयोजक डा0 प्रगति शर्मा ने छात्र-छात्राओं को विभिन्न प्रतियोगिताओं में भाग लेने के लिये प्रोत्साहित किया, ताकि उनका सर्वांगीण विकास हो सके।

कार्यक्रम में डा0 पारेश कुमार, डा0 आरटीएस पुंडीर, डा0 योगेश शर्मा, डा0 विकास कुमार, अभिषेक राय, डा0 नवीन द्विवेदी, डा0 संदीप कुमार, अंकुर सक्सेना, जितेन्द्र कुमार, राजेन्द्र कुमार, संगीता अग्रवाल, प्रवीण कुमार, मनोज कुमार, मुर्सलीन रहमान, धीरज कुमार, ब्रजमोहन, आकाश कुमार, राजीव कुमार, प्रमोद कुमार व दिनेश कुमार आदि का सराहनीय सहयोग रहा।

Related posts

Leave a Comment