श्रीराम जन्मभूमि परिसर की भीतर-बाहर की 250 फीट गहराई का होगा अध्ययन

शि.वा.ब्यूरो, लखनऊ। श्रीरामजन्मभूमि परिसर के भीतर व बाहर की भूमि के भीतर तकरीबन 250 फीट गहराई तक की परिस्थिति का अध्ययन किया जा रहा है। इतनी गहराई तक की मिट्टी की सभी सतह की तस्वीर रिपोर्ट के साथ ही बाहर आएगी। भूमि के भीतर मौजूद खनिज संसाधन, जल स्तर, भूकंप सहने की क्षमता सहित कई अन्य तथ्यों पर विश्लेषण तैयार होगा। गत 3 दिनों तक इसका अध्ययन भारत सरकार के राष्ट्रीय भू भौतिकी अनुसंधान संस्थान हैदराबाद के वैज्ञानिकों ने किया। इसी संस्थान की एक अन्य टीम भी राम नगरी आकर भूमि के भीतर की स्थिति को परखे की दोनों टीमों के अध्ययन पर एक रिपोर्ट तैयार होगी, जो मंदिर निर्माण समिति को दी जाएगी। टीम ने भूमि के भीतर अध्ययन के लिए एक विशेष प्रकार के रडार का प्रयोग किया। इस रडार को आधुनिक तरीके से कंप्यूटर से जोड़ा गया है। इसी पर भूमि के भीतर की तस्वीर देखी गई।

Related posts

Leave a Comment