युवा मंच की मीटिंग 31 दिसंबर को, प्रदेश स्तरीय आंदोलन का हो सकता है ऐलान

शि.वा.ब्यूरो, प्रयागराज। चयन बोर्ड पर प्रदर्शन के दौरान पूरे क्षेत्र को पुलिस छावनी में तब्दील करने और टीजीटी पीजीटी विज्ञापन व लंबित मामलों के निस्तारण के लिए ठोस कदम उठाने का आश्वासन न मिलने से युवाओं का आक्रोश चरम पर है। छात्रों ने रोजगार के मुद्दे पर जनवरी में प्रदेश स्तरीय आंदोलन का ऐलान किया है, जिसकी रूपरेखा व रणनीति तैयार करने के लिए 31 दिसंबर को अपरान्ह 3 बजे से छोटा बघाड़ा स्थित ऐनीबेसेंट स्कूल में मीटिंग बुलाई गई है।
प्रशासनिक अधिकारियों की उपस्थिति में चयन बोर्ड के पदाधिकारियों से हुई वार्ता में टीजीटी पीजीटी का संशोधित विज्ञापन जारी करने की तिथि, सामाजिक विज्ञापन का साक्षात्कार शुरू करने, टीजीटी 2016 जीवविज्ञान की परीक्षा आयोजित कराने समेत, समायोजन समेत अन्य लंबित मामलों के निस्तारण के लिए चयन बोर्ड ठोस आश्वासन नहीं दे सका हालांकि अध्यक्ष से वार्ता कराने का आश्वासन जरूर दिया गया।
युवा मंच अध्यक्ष अनिल सिंह ने चेतावनी देते हुए कहा कि चयन बोर्ड और शासन प्रशासन छात्रों को गुमराह करना बंद करे अन्यथा यह योगी सरकार के लिए मंहगा साबित होगा। उन्होंने कहा कि चयन बोर्ड और सरकार की कार्यप्रणाली से छात्र आजिज आ चुके हैं। लंबे अरसे तक चले आंदोलन के बाद चयन बोर्ड को अक्टूबर 2019 में 40 हजार पदों का अधियाचन प्राप्त हुआ था। इसके एक साल बाद जारी हुए विज्ञापन में 60 % की कटौती से युवा पहले ही आक्रोशित थे, उसमें भी जानबूझकर विज्ञापन को रद्द करना और संशोधित विज्ञापन जारी करने को लेकर चयन बोर्ड की नीयत साफ न होने से आक्रोश और बढ़ गया है, अब युवाओं के पास सड़कों पर उतरने के सिवाय कोई और रास्ता नहीं है। उन्होंने कहा कि 17 सितंबर को जिस तरह रोजगार के मुद्दे पर आंदोलन किया गया था उससे भी विराट आंदोलन वक्त की जरूरत है जिसकी गूंज दिल्ली तक हो। युवा मंच महासचिव अमरेंद्र सिंह ने कहा कि रोजगार के मुद्दे पर योगी सरकार अपनी उपलब्धियों का महिमामंडन के बजाय रोजगार के सवाल को हल करने के लिए ठोस कदम उठाये, अन्यथा युवाओं के आक्रोश का खामियाजा भुगतना पड़ेगा।
उन्होंने कहा कि शांतिपूर्ण ढंग से आयोजित प्रदर्शन को भी पुलिस छावनी में तब्दील कर आतंक व दहशत का माहौल से युवा डरने वाले नहीं हैं, अब रोजगार की जंग होगी। उन्होंने कहा कि 4 साल में शिक्षा महकमे में तो कोई भी न ई भर्ती नहीं आयी है। जबकि प्राथमिक विद्यालयों में 97 हजार खाली पद होने का हलफनामा सुप्रीम कोर्ट में सरकार ने लगाया है। उन्होंने साल के अंतिम दिन बुलाई गई मीटिंग में पहुंचने की अपील की। प्रदर्शन के दौरान युवा मंच अध्यक्ष अनिल सिंह, महासचिव अमरेंद्र सिंह,  बीएड उत्थान जन मोर्चा की प्रदेश अध्यक्ष संगीता पाल, अरविंद मौर्या, सुनील  यादव, परमानंद पाठक, सत्यशील यादव, राज बहादुर सिंह, अजित सिंह, विश्व नाथ प्रताप सिंह, सुनील सिंह, विपिन कुमार, रवि प्रकाश, धनंजय यादव, अनिल कुमार, मोहन, विनीत यादव, समय प्रकाश पाठक, राजेश चौरसिया समेत भारी संख्या में छात्रों की मौजूदगी रही।

Related posts

Leave a Comment