कार्यकाल खत्म होते ही लग गयी आग, सभी दस्तावेज़ जलकर खाक

शि.वा.ब्यूरो, सीतापुर। प्रधानों के खेल भी निराले हैं। कार्यकाल खत्म होते ही आखरी दिन ग्राम विकास अधिकारी के ऑफिस में आग लग गयी और लैपटॉप, प्रिंटर, इनवर्टर, अलमारी आदि के साथ सभी दस्तावेज़ जलकर खाक हो गए। क्षेत्र में चर्चा है कि आखरी कार्यकाल के दिन ही आग क्यों लगी।
मामला जनपद के ब्लाक सकरन का है, जहाँ शार्ट सर्किट से आग लगना बताया जा रहा है। दलील दी जा रही है कि ऑफिस बंद होने के कारण किसी को आग लगने की जानकारी नहीं हो सकी, जिससे आग ने विकराल रूप धारण कर लिया। आग की लपटें उठती देख स्थानीय लोगों ने घटना की सूचना ब्लाक के अधिकारियों को दी। ग्रामीणों ने काफी मशक्क़त के बाद आग पर काबू पाया।
बता दें कि सांडा स्थित सकरन ब्लाक कार्यालय परिसर में स्थित आवास संख्या २  में पंचायत सचिव अशोक यादव का कार्यालय है| यहां बीती रात करीब 7:00 बजे जब आवास में ताला लगा हुआ था, तभी अचानक आग लगने से आवास में रखें बारहसिंघा, पचदेवरा, झोऊआखुर्द, दौदापुर, टेडवा कला, क्योटना हरदो पट्टी, सरैया कला आदि 7 ग्राम पंचायतों के सभी अभिलेख और लैपटॉप, प्रिंटर, इनवर्टर, अलमारी आदि के साथ अन्य जरूरी सामान भी जलकर राख हो गया। मौके पर पहुंची पुलिस के साथ चौकीदार विनोद कुमार और मनरेगा की कंप्यूटर ऑपरेटरों नेआग बुझाने में ग्रामीणो कि मदद की।
        पंचायत सचिव अशोक यादव ने बताया कि अज्ञात कारणों से लगी आग से कार्यालय में रखे तमाम महत्वपूर्ण अभिलेख और अन्य जरूरी चीजें जल गई है| घटना को लेकर बिसवां कोतवाली में तहरीर दी गई है। ग्रामीणो का आरोप है कि पंचायत सेक्रेट्री व ग्राम प्रधानों की मिलीभगत से यह आग नहीं लगाई गई है। उन्होंने आरोप लगाया कि ये आग  5 साल के कार्यकाल में किए गए घोटालों के दस्तावेज जलाने के लिए ही लगाए गई है। इस मामले में B D O संदीप कुमार ने कहा कि उन्हें आग लगने की जानकारी मिली है। घटना की जांच कर कार्यवाही की जाएगी और दोषियों के खिलाफ सख्त से सख्त कार्रवाई की जाएगी।

Related posts

Leave a Comment