शुक्रताल में मोरारी बापू की कथा का चौथा दिन, ब्रह्मानंद और परमानंद का अंतर समझाया

राहुल पोखरियाल, शुक्रताल। परम पावन-तरण तारिणी में गंगा के तट पर बहने वाली कहानी में चौथे दिन एक बहुत ही शांत धारा में बापू ने कहा कि शुकदेवजी अपनी माता के गर्भ से पैदा हुए थे और कई रूपों में, उपनयन या किसी भी अन्य संस्कार से पहले छोड़ दिए गए थे। जिसे ममता-मोहवश हैयायन व्यास टूटे हुए दिल के साथ खोजने के लिए दौड़े। शुकदेवजी से वृक्ष और लताएँ जवाब देती हैं, कोई कहता है कि वृक्ष क्यों प्रतिक्रिया करता है? जैसे ही वक्ता के होंठ हिलते हैं, वैसे ही गुरबानी-गुरुकृपा। शुक भी हर निर्जीव के दिल में निहित है, इसलिए शुक जवाब देते है। पाँच प्रकार के सुख हैं जैसे कि विश्वानंद, भोगानंद आदि लेकिन साधक के लिए दो प्रकार के सुख हैं – ब्रह्मानंद और परमानंद दोनों के बीच क्या अंतर है? ब्रह्मानंद तब होता है जब कोई साधक ब्रह्म को याद करता है या ब्रह्म उसकी याददाश्त खोलता है और साधु-साधक उसे अनुभव करता है। लेकिन साधु अपने गुरु को याद करता है और अहसास आनंदित होता है। आनंद में गद-गीर नीरा बहै नीरा-ए की स्थिति है।
मोरारी बापू ने कहा कि विद्यानंद क्षणिक सुख है। शुकदेवजी अपनी माता के गर्भ में बारह वर्षों से हैं। यह मानव या वैज्ञानिक तर्क से नहीं मापा जाता है बल्कि बारह वर्ष एक युग माना जाता है। कोई भी जानकार, विद्वान अपने जीवन के अंतिम वर्षों में 12-12 साल के टुकड़ों को देखकर समझ सकता है कि कितना बदल गया है। उन्होंने कहा कि रामचरित मानस में मंत्री-सचिव पात्र बहुत पुराने हैं। रावण आदि के स्वांग में माल्यवंत, जामवंत, सुमंत, जटायु, संपति, ब्रह्मा आदि।
बापू ने कहा कि शुक का निर्णय गर्भ से बाहर नहीं आने का था, जब तक कि परम सही पक्ष पर नहीं था। बापू ने कहा कि भगवद गीता में लोगों के बीच आध्यात्मिक संचार होता है। शारीरिक या मानसिक रूप से आपका बुद्धपुरुष के साथ जुड़ाव, यह वही भावना देगा। गीताजी कहती हैं कि संघ काम पैदा करता है और काम क्रोध पैदा करता है लेकिन फकीरों की संगति से राम चमकते हैं। एक सत्संग में, समय स्थिर हो जाता है, समय सारणी नहीं। समय रुक जाता है। लक्ष्मण धर्म है, शत्रुघ्न का अर्थ है। यह समझने के लिए कि रामतो स्वयं मोक्ष हैं लेकिन भरत काम करते हैं, थोड़ा गुरु की कृपा चाहिए।
मोरारी बापू ने कहा कि जहाँ हृदय ब्रह्म का अनुसरण करता है वही ब्रह्मानन्द है जो थोड़ा कठोर है लेकिन परमानन्द तीसरा प्रेम है। वास्तव में वैष्णववाद हमें आनंद देना चाहता है। हम प्यार के शिकार हैं। ब्रह्मानंद को योगियों को दे दो। ब्रह्मानंद संघ से मुक्त है लेकिन आनंद में संबंध है। सूफियों ने उसे मरहम लगाने वाला कहा। ब्रह्मानंद सुनकर मन भर सकता है, लेकिन परमानंद खुद को नष्ट कर लेता है।

Related posts

Leave a Comment