कमर दर्द, सरवाइकल और चारपाई

शिक्षा वाहिनी समाचार पत्र।

हमारे पूर्वज बैज्ञानिक थे। सोने के लिए खाट हमारे पूर्वजों की सर्वोत्तम खोज है। हमारे पूर्वज क्या लकड़ी को चीरना नहीं जानते थे ? वे भी लकड़ी चीरकर उसकी पट्टियाँ बनाकर डबल बेड बना सकते थे। डबल बेड बनाना कोई रॉकेट सायंस नहीं है। लकड़ी की पट्टियों में कीलें ही ठोंकनी होती हैं। चारपाई भी भले कोई सायंस नहीं है, लेकिन एक समझदारी है कि कैसे शरीर को अधिक आराम मिल सके। चारपाई बनाना एक कला है। उसे रस्सी से बुनना पड़ता है और उसमें दिमाग और श्रम लगता है। जब हम सोते हैं, तब सिर और पांव के मुकाबले पेट को अधिक खून की जरूरत होती है; क्योंकि रात हो या दोपहर में लोग अक्सर खाने के बाद ही सोते हैं। पेट को पाचनक्रिया के लिए अधिक खून की जरूरत होती है, इसलिए सोते समय चारपाई ही इस स्वास्थ का लाभ पहुंचा सकती है।

https://shikshavahini.com/4780/

https://shikshavahini.com/4651/

दुनिया भर की आराम कुर्सियां देख लें, सभी में चारपाई की तरह जोली बनाई जाती है। बच्चों का पुराना पालना सिर्फ कपडे की जोली का था, लकडी का सपाट बनाकर उसे भी बिगाड़ दिया गया है। चारपाई पर सोने से कमर और पीठ का दर्द का दर्द कभी नही होता है। दर्द होने पर चारपाई पर सोने की सलाह दी जाती है। डबलबेड के नीचे अंधेरा होता है, उसमें रोग के कीटाणु पनपते हैं, वजन में भारी होता है तो रोज-रोज सफाई नहीं हो सकती। चारपाई को रोज सुबह खड़ा कर दिया जाता है और सफाई भी हो जाती है। सूरज का प्रकाश बहुत बढ़िया कीटनाशक है। खटिये को धूप में रखने से खटमल इत्यादि भी नहीं लगते हैं।

https://shikshavahini.com/4655/

0

https://shikshavahini.com/4424/

अगर किसी को डॉक्टर Bed Rest लिख देता है तो दो-तीन दिन में उसको English Bed पर लेटने से Bed -Soar शुरू हो जाता है, लेकिन भारतीय चारपाई ऐसे मरीजों के बहुत काम की होती है। चारपाई पर Bed Soar नहीं होता, क्योकि इसमें से हवा आर पार होती रहती है । गर्मियों में इंग्लिश Bed गर्म हो जाता है, इसलिए AC की अधिक जरुरत पड़ती है, जबकि सनातन चारपाई पर नीचे से हवा लगने के कारण गर्मी बहुत कम लगती है । बान की चारपाई पर सोने से सारी रात Automatically सारे शारीर का Acupressure होता रहता है।

https://shikshavahini.com/4420/

https://shikshavahini.com/4186/

गर्मी में छत पर चारपाई डालकर सोने का आनद ही और है। ताज़ी हवा, बदलता मौसम, तारों की छांव व चन्द्रमा की शीतलता जीवन में उमंग भर देती है। हर घर में एक स्वदेशी बाण (सूती निवार) की बुनी हुई (प्लास्टिक की नहीं ) चारपाई होनी चाहिए। अब बाज़ार में सस्ते प्लास्टिक की रस्सी और पट्टी आ गयी है, लेकिन वह सही नही है। स्वदेशी चारपाई के बदले हजारों रुपये की दवा और डॉक्टर का खर्च बचाया जा सकता है।

Related posts

Leave a Comment