निर्विवाद उत्तराधिकार खतौनी में दर्ज किये जाने हेतु चल रहे विशेष अभियान के अन्तर्गत जिलाधिकारी ने ग्राम पलड़ा, आदमपुर व भौराखुर्द में ग्राम वासियों के साथ किया संवाद

शि.वा.ब्यूरो, मुजफ्फरनगर।  जिलाधिकारी सेल्वा कुमारी जे ने निर्विवाद उत्तराधिकार (विरासत) खतौनी में दर्ज कराये जाने के विशेष अभियान के अन्तर्गत आज ग्राम पलडा, आदमपुर व भौराखुर्द में खुली बैठक कर ग्रामवासियों के साथ सीधा संवाद कर अभियान व योजनाओं की जानकारी दी। उन्होने उपस्थित ग्रामवासियों को सम्बोधित करते हुए कहा कि उ0प्र0 शासन के निर्देशानुसार निर्विवाद उत्तराधिकार (विरासत) खतौनी में दर्ज कराये जाने का विशेष अभियान चलाया जा रहा है। उन्होने कहा कि 15 दिसम्बर से 30 दिसम्बर तक राजस्व/तहसील अधिकारियों द्वारा भ्रमण कर राजस्व ग्रामों में प्रचार-प्रसार तथा खतौनियों को पढा जायेगा तथा लेखपाल द्वारा विरासत हेतु प्रार्थना पत्र प्राप्त कर उन्हें ऑनलाइन भरा जायेगा। उन्होने बताया कि 31 दिसम्बर से 15 जनवरी 2021 तक क्षेत्रीय लेखपाल द्वारा परिषदादेश सं0 9616/4-3ए/2018(विरासत) दिनांक 29 अक्टूबर 2018 में दी गयी व्यवस्था लेखपाल द्वारा आनलाइन जांच की प्रक्रिया के अनुसार कार्यवाही की जायेगी।


उन्होने बताया कि 16 जनवरी से 31 जनवरी तक राजस्व निरीक्षकों द्वारा परिषदादेश सं0 9616/4-3ए/2018 (विरासत) दिनांक 29 अक्टूबर 2018 में दी गयी व्यवस्था राजस्व निरीक्षक जांच एवं आदेश पारित करने की प्रक्रिया के अनुसार कार्यवाही की जायेगी। 16 जनवरी से 31 जनवरी तक राजस्व निरीक्षक (कार्यालय) द्वारा राजस्व निरीक्षक के नामान्तरण आदेश को आर-6 में दर्ज करने के पश्चात खतौनी की प्रविष्टियों को भूलेख साफ्टवेयर ऑ अद्यावधिक भी किया जायेगा। 01 फरवरी से 07 फरवरी 2021 तक जिलाधिकारी द्वारा प्रत्येक लेखपाल, राजस्व निरीक्षक, तहसीलदार तथा उप जिलाधिकारी से इस आशय का प्रमाण पत्र प्राप्त किया जायेगा कि उनके क्षेत्र के अन्तर्गत स्थित राजस्व ग्रामों में निर्विवाद उत्तराधिकार का कोई भी प्रकरण दर्ज होने से अवशेष नही है। 8 फरवरी से 15 फरवरी तक अभियान के अन्त में जिलाधिकारी द्वारा जनपद के प्रत्येक तहसील के दस प्रतिशत राजस्व ग्रामों के रैण्डमली चिन्हित करते हुए उनमें अपर जिलाधिकारी, उप जिलाधिकारी व अन्य जनपद स्तरीय अधिकारियों द्वारा इस तथ्य की जांच करायी जायेगी कि निर्विवाद उत्तराधिकार का कोई प्रकरण दर्ज होने से बचा नही है। 31 दिसम्बर 2020, 17 जनवरी तथा 02 फरवरी को जनपद की प्रगति रिपोर्ट निर्धारित प्रास्प मे परिष की वेबसाइट पर फीड किया जायेगा तथा 20 फरवरी तक जनपद द्वारा परिषद को संलग्न निर्धारित प्रारूप पर प्रमाण पत्र उपलब्ध कराये जायेगे।


इस अभियान के अन्तर्गत ग्राम पलडा में 07 प्रकरण, आदमपुर में 10 व भौराखुर्द में 02 प्रकरणों में वारिसों के नाम खतौनी में दर्ज कर लिए गये है। उन्होने कहा कि ग्रामवासी 30 रूपये देकर डिजीटल खतौली ग्राम सचिवालय से प्राप्त कर सकते है। उन्होने निर्देश दिये कि लेखपाल व सचिव एक ही दिन ग्राम सचिवालय में बैठेगे ताकि ग्राम वासियों की समस्याओं का समाधान हो सके। इस अवसर पर एस0डी0एम0, तहसीलदार सहित ग्राम प्रधान व ग्रामवासी उपस्थित थे।

Related posts

Leave a Comment