सीएमएस में आयोजित तीन दिवसीय अन्तर्राष्ट्रीय विज्ञान ओलम्पियाड ‘क्वान्टा-2020’ का दूसरा दिन, प्रतिभागी छात्रों ने लहराया अपने ज्ञान-विज्ञान का परचम

शि.वा.ब्यूरो, लखनऊ। सिटी मोन्टेसरी स्कूल चैक कैम्पस द्वारा ऑनलाइन आयोजित किये जा रहे तीन दिवसीय अन्तर्राष्ट्रीय विज्ञान ओलम्पियाड ‘क्वान्टा-2020’ के दूसरे दिन आज ब्राजील, जर्मनी, जार्डन, बांग्लादेश, रूस एवं भारत के विभिन्न प्रान्तों के प्रतिभागी छात्रों ने मैथमेटिक्स एवं मेन्टल एबिलिटी क्विज प्रतियोगिता में अपने ज्ञान-विज्ञान का जोरदार प्रदर्शन कर अपनी अभूतपूर्व प्रतिभा की चमक बिखेरी और ये साबित कर दिया कि यही भावी पीढ़ी आगे चलकर समाज के नवनिर्माण की जिम्मेदारी बखूबी संभालेगी। विदित हो कि यह अन्तर्राष्ट्रीय आयोजन सिर्फ लखनऊ में हीं नहीं अपितु विश्व भर के छात्र-छात्राओं, शिक्षकों व अभिभावकों में बेहद लोकप्रिय है और अब तक 40 से अधिक देशों के छात्र इस ओलम्पियाड में प्रतिभाग कर चुके हैं। इसी कड़ी में लगातार 24वीं बार क्वान्टा इण्टरनेशनल का आयोजन किया जा रहा है।

https://shikshavahini.com/4561/

क्वान्टा इण्टरनेशनल के अन्तर्गत जूम एप पर ऑनलाइन सजीव आयोजित मैथमेटिक्स एवं मेन्टल एबिलिटी प्रतियोगिता के फाइनल राउण्ड में आज देश-विदेश के छात्रों के बीच कड़ी प्रतिस्पर्धा देखने को मिली। यह प्रतियोगिता दो चरणों में सम्पन्न हुई, जिसमें प्रथम लिखित राउण्ड के विजेता छात्र टीम को अन्तर्राष्ट्रीय मंच पर फाइनल राउण्ड में अपने ज्ञान-विज्ञान का प्रदर्शन करने का अवसर मिला। प्रत्येक टीम में दो छात्र शामिल थे जिन्होंने पूछे गये सवालों के जवाब में बिजली की तेजी से उत्तर देकर अपने ज्ञान का लोहा मनवाया। प्रतियोगिता का संचालन शिवानी तिवारी ने किया। प्रतियोगिता में तार्कित प्रश्नों के अलावा सीनियर सेकेण्डरी ग्रेड स्तर की गणित की विभिन्न विधाओं से प्रश्न पूछे गये।

https://shikshavahini.com/4564/

इससे पहले, सीएमएस संस्थापक व प्रख्यात शिक्षाविद् डा. जगदीश गाँधी ने अपने सारगर्भित संबोधन से देश-विदेश के बाल वैज्ञानिकों का भरपूर मार्गदर्शन किया एवं प्रतिभागी छात्रों को आशीर्वाद देते हुए उनके उज्जवल भविष्य की कामना की। क्वान्टा-2020 की सचिव व सी.एम.एस. चैक कैम्पस की प्रधानाचार्या श्रीमती अदिति शर्मा ने बताया कि ‘क्वान्टा-2020’ के अन्तर्गत कल 20 दिसम्बर को सायं 5.00 बजे साइन्स क्विज का जूम एप पर आॅनलाइन सजीव आयोजन किया जायेगा, जिसमें देश-विदेश की 23 छात्र टीमें अपने ज्ञान-विज्ञान का परचम लहरायेंगी। उन्होंने विश्वास व्यक्त किया कि क्वान्टा की प्रतियोगिताएं युवा पीढ़ी का विश्वव्यापी वैज्ञानिक दृष्टिकोण विकसित करने में सहायक होंगी।

https://shikshavahini.com/4657/

Related posts

Leave a Comment