फिर से लौट कर आऊंगा

राजीव डोगरा ‘विमल’, शिक्षा वाहिनी समाचार पत्र।

सुनो ! मैं
फिर से लौट कर आऊंगा,
मिट्टी नहीं हूं
जो उड़ गया।
तूफ़ान हूं
फिर से थरथराता आऊंगा।

सुनो !
जीवन पथ पर
तुमने मुझे कभी
कुछ नहीं समझा
मगर वक्त के पन्नों पर
लिखा है साथ मेरा तेरा
मैं फिर से तुम्हें
अपना बनाने आऊंगा।

सुनो !
बहुत रुलाया है तुमने
मुझे बात-बात पर
पर तुम भी
लौट कर आओगे एक दिन
पलके भीगाकर।

युवा कवि लेखक गवर्नमेंट हाई स्कूल, ठाकुरद्वारा, कांगड़ा हिमाचल प्रदेश

Related posts

Leave a Comment