वर्ल्ड के बेस्ट पापा, हैपी 73 बर्थ डे ( बेटी मिली भाटिया का दुनिया के सबसे अच्छे अपने पापा को पत्र)

डॉक्टर मिली भाटिया आर्टिस्ट, शिक्षा वाहिनी समाचार पत्र।

“दादी की प्राणदुलारी हो, मम्मी की राजदुलारी हो, इकलौती तुम मेरी बिटिया, तुम सबसे मुझको प्यारी हो” आज भी जब आपकी लिखी हुई कविताएँ मेरे बचपन की पड़ती हूँ, तो आँख भर जाती हैं। मेरे “पापा” इस शब्द में पूरी दुनिया बसती है मेरी। बचपन से ही हमेशा आप मेरे बेस्ट फ़्रेंड, राखी के दिन भाई, स्कूल होमवर्क कराते टाइम टीचर, शाम को ईवनिंग वॉक पर जाते गप्पें मारते वक्त मेरे बेस्ट फ़्रेंड और जब मम्मी अपनी एकलौती संतान को BA फ़र्स्ट ईयर में छोड़ कर ईश्वर के घर गई, तब से आप मम्मी का रोल निभाते आ रहे हैं पापा। तब 17 साल की टीनऐज़र बेटी को कैसे अकेले सम्भाला होगा आपने? 17 साल हो गये पापा, आपने मुझपर विश्वास बनाए रखा।
गर्व होता है, जब दुनिया बोलती है कि मिली तेरे पापा कितने अच्छे हैं। आँखें ख़ुशी से चमक उठतीं हें मेरी। मेरे लिए कितना त्याग किया आपने, दुनिया से लड़े, रिश्तेदारों से लड़े, जब मम्मी हमें छोड़ कर गईं थी, तब लोगों ने कहा था, मिली का क्या होगा? नानी ने कहा था कि मिली अनाथ हो गई, तब हमेशा से चुप रहने वाले इंसान आप लड़ लिए अपनी बेटी के लिए कि अभी तो मैं बेठा हूँ, मिली को कोई कुछ नहीं कहेगा। लोग आपको बोलते रहे कि दूसरी शादी कर लो, बेटा गोद ले लो, मिली को किसी मासी के घर छोड़ दो, वगैरा-वगैरा, पर आपने अपनी बेटी को सम्भाला। आपकी बच्चों के लिए लिखी किताबों से देश भर के लाखों बच्चों के लिए प्रेरणास्त्रोत हैं। डॉक्टर APJ अब्दुल कलाम से आप आत्माराम पुरस्कार से सम्मानित हैं। परमाणु बिजलीघर में वैज्ञानिक अधिकारी के पद से आप रेटायरमेंट के 13 साल बाद भी बच्चों के लिए सक्रिय हैं। पापा! आप कई गरीब बेटे-बेटियों की शिक्षा की ज़िम्मेदारी निभा रहे हैं, आपके जैसा कोई नहीं है पापा। आप इस दुनिया के सबसे अच्छे पापा हैं। आपके होने से में अपने आप को पूरी तरह सुरक्षित महसूस करती हूँ हमेशा। मेरी और शिक्षा वाहिनी न्यूज़पेपर की तरफ़ से हैपी 73 बर्थडे प्रिय पापा…………।
रावतभाटा, राजस्थान।

Related posts

Leave a Comment