कैरियर की समस्या व समाधान

दिलीप भाटिया, शिक्षा वाहिनी समाचार पत्र।

निष्ठा को रटने की आदत है, फिर भी परीक्षा हॉल में याद नहीं आ पाता। निष्ठा बेटी, पढ़ने के बाद पढ़े हुए को लिखिए। नहीं लिख पा रहीं हैं तो दुबारा पढ़कर लिखने का प्रयास करें। लिखित नोट्स परीक्षा की पूर्व रात्रि को रिवीजन के लिए उपयोगी रहेंगे। रटने की आवश्यकता नहीं रहेगी। दस बार पढ़ना एवम एक बार लिखना स्मरण के लिए समान है।
आई आई टी एंट्रेंस परीक्षा के लिए अच्छे कोचिंग संस्थान से रश्मि ने कोचिंग ली फिर भी सफलता नहीं मिली। रश्मि बेटी, तुम्हें साथ में एनसीईआरटी की कक्षा 11 एवं 12 की टेक्स्ट बुक भी पढ़नी चाहिए थीं। नींव मजबूत हो जाती है। अधिकांश प्रश्न पाठ्य पुस्तकों से ही पूछे जाते हैं। सरल प्रश्नों के उत्तर पहले लिखो। जो जितना पूछा है उतना ही सही उत्तर शब्दों की सीमा में लिखो। सरिता स्कूल लेक्चरर ग्रेड वन परीक्षा को तीन बार दे चुकी है, लेकिन परिणाम नकारात्मक आता है। सरिता बेटी! पहली बार की असफलता को स्वयं मूल्यांकन करना चाहिए था। क्या कमियां रहीं, क्या गलतियां हुईं। कमियां को दूर कर एवम गलतियों को सुधार कर तैयारी करती तो दूसरी बार में अवश्य सफल हो जाती। समय प्रबंधन सोशल साइट्स से परहेज़ पार्टी शादी बर्थडे सामाजिक पारिवारिक समारोहों से परहेज़ कविता कहानी लेख लिखने से परहेज़ सब कुछ त्याग कर पढ़ाई में शत प्रतिशत समय देकर लिखित नोट्स बनाकर पहली बार में ही सफलता मिल सकती थी। पढ़ने का तरीका सही नहीं है तो कितनी भी बार फॉर्म भरना शून्य परिणाम ही देगा।                                 जया असमंजस में है, कक्षा 12 की बोर्ड परीक्षा देनी है। बोर्ड ने 30 से 40 प्रतिशत कोर्स कम कर दिया है। उधर फरवरी 2021 में आई टी की एंट्रेंस परीक्षा है। क्या बोर्ड का 60
प्रतिशत कोर्स कर लेना चाहिए। नहीं जया बेटी! कम किया हुआ कोर्स सिर्फ बोर्ड की परीक्षा भर के लिए है। आई आई टी एवम नीट के लिए पुराने पूरे कोर्स की स्टेट बोर्ड एवम एनसीईआर टी की कक्षा 11 एवम 12 की पाठ्य पुस्तकें पूरी पढ़नी चाहिए। संक्रमण के कारण बिना परीक्षा के प्रोमोट करने के लिए छात्र नेता आंदोलन कर रहे है। रोहित असमंजस
में है। रोहित, परीक्षा देकर डिग्री लेने से उसकी वैधता रहेगी। प्रोमोट वाली डिग्री अच्छे संस्थान में सर्विस के साक्षात्कार में अस्वीकार की जा सकती है। कोचिंग संस्थान स्कूल में फर्जी एडमिशन दिला देते हैं। संजय ने जानना चाहा है कि क्या इससे आगे परेशानी आ सकती है। संजय! किसी सर्विस के इंटरव्यू में आप से कक्षा 11 एवम 12 के गणित के टीचर का
नाम पूछ लिया एवम उन्होनें क्रॉस चेक किया तो गलत एडमिशन का नुक्सान आपको ही होगा। कक्षा 10 के बाद से ही स्कूल नहीं जाकर मात्र कोचिंग ज्वॉइन करना क्या सही निर्णय है। नीरजा जानना चाहती है। नीरजा बेटी! नहीं, कक्षा 11 एवम 12 की पढ़ाई नियमित स्कूल में करनी चाहिए। फंडामेंटल क्लियर हो जाने से ही प्रतियोगिता परीक्षा में सफलता मिल जाएगी। नहीं तो कक्षा 12 के पश्चात एक वर्ष को कोचिंग का निर्णय लिया जा सकता है।  ज्योत्सना  ने जानना चाहा है के एक परीक्षा के लिए अधिकतम कितनी बार प्रयास करें। ज्योत्सना बेटी! दो बार, दो बार में भी सफलता नहीं मिल पाए तो कैरियर का रास्ता बदल देना चाहिए। इस संस्मरण को पढ़ने वाले पाठक पाठिकाओं के कैरियर संबंधी कोई प्रश्न हों
तो मुझे मोबाइल व्हाट्सएप 9461591498 पर संपर्क करें। dileepkailash@gmail.com  पर संपर्क कर मेरी प्रकाशित पुस्तक कैरियर एवं समय उपहार स्वरूप प्राप्त कर
सकते हैं।

सेवानिवृत्त परमाणु वैज्ञानिक अधिकारी राजस्थान परमाणु बिजली घर रावतभाटा

Related posts

Leave a Comment