बेटी है संसार

नरेन्द्र कुमार शर्मा, शिक्षा वाहिनी समाचार पत्र।

बेटी न होती तो संसार न होता।
न मां की ममता न भाई बहन का प्यार होता।
न तो सृष्टि होती न दाम्पत्य का दीदार होता।
बेटी न होती तो संसार न होता।
न तो  मातृत्व और न माधुर्य का संचार होता।
बेटी न होती तो संसार न होता।
नेमत है ख़ुदा की बेटी, संसार मरुस्थल का आकर होता।
बेटी न होती तो संसार न होता।
बेटी से सांवरी ये धरा, आज जीवन किस प्रकार होता।
बेटी न होती तो संसार न होता।
शिमला, हिमाचल प्रदेश 

Related posts

Leave a Comment