अखिल भारतीय कूर्मि क्षत्रिय महासभा के राष्ट्रीय महासचिव आरएस कनौजिया 4 दिवसीय दौरे पर रायपुर में

कूर्मि कौशल किशोर आर्य, शिक्षा वाहिनी समाचार पत्र।

अखिल भारतीय कूर्मि क्षत्रिय महासभा के राष्ट्रीय महासचिव आरएस कनौजिया 4 दिवसीय रायपुर (छतीसगढ़) के दौरे पर हैं। पहले दिन महासभा के कार्यवाहक राष्ट्रीय अध्यक्ष नन्दकुमार बघेल के आवास पर उत्तर प्रदेश, हरियाणा, दिल्ली, बिहार, महाराष्ट्र और छतीसगढ़ के स्थानीय कूर्मि बंधुओं की बैठक में आगामी 03 और 04 मार्च 2021 के राष्ट्रीय अधिवेशन और कूर्मि महासम्मेलन के तैयारी पर समीक्षा की गई। सदस्यों ने राष्ट्रीय अध्यक्ष के अलावा 4 अन्य अलग- अलग टीम बनाकर चारों दिशाओं में सम्पर्क अभियान चलाने पर जोर दिया गया, जिसे सभा ने स्वीकार कर लिया।
सभा को संबोधित करते हुए महासभा के राष्ट्रीय महासचिव आर एस कनौजिया ने 126 वर्ष पुराने महासभा की स्थापना और उद्देश्य पर पक्ष रखते हुए वर्तमान परिपेक्ष में महासभा की भूमिका की रूप रेखा रखी। कार्यवाहक राष्ट्रीय अध्यक्ष नन्दकुमार बघेल ने आगामी 03-04 मार्च 2021 के कूर्मि महासम्मेलन को ऐतिहसिक बनाने और चुनाव प्रक्रिया को निष्पक्ष, पारदर्शितापूर्ण और संवैधानिक तरीके से कराने की बात कही। श्री बघेल ने कहा कि मार्च 2021 के पहले सभी 543 लोकसभा क्षेत्रवार जन सम्पर्क अभियान चलाकर देश के कूर्मि समाज को जागरूक, संगठित और उत्साहित करने के बाद ही मार्च 2021 में रायपुर में राष्ट्रीय कार्यकारिणी समिति की चुनाव संवैधानिक लोकतांत्रिक व्यवस्था के तहत कराई जाएगी।
उन्होंने कहा कि इस ऐतिहासिक कूर्मि महासम्मेलन सह चुनाव में सभी लोक सभा क्षेत्रों के प्रतिनिधि भाग लेंगे, जिसकी तैयारी उत्तर प्रदेश और राजस्थान दौरे की शुरुआत करने के साथ की जा चुकी है। महासभा के एकीकरण और मजबूती के लिए महासभा के दोनों गुटों के राष्ट्रीय अध्यक्ष और अन्य पदाधिकारी को महासभा को अखंड रखने के लिए एक बैनर के नीचे आने के लिए संदेश दे दिये गये हैं। महासभा को अखंडित और अक्षुण्ण बनाये रखने के लिए अगर दोनों गुट के राष्ट्रीय अध्यक्ष अपनी सहभागिता सुनिश्चित करके एकीकरण करते हैं तो ठीक है, वरना महासभा को मजबूत बनाने के लिए उनके बिना भी अगला कदम उठाये जा सकते हैं।
श्री बघेल ने उम्मीद जताई कि जनवरी-फरवरी 2021 तक स्थिति स्पष्ट हो जायेगी। महासभा के सभी पुराने और नये सदस्यों और पदाधिकारियों के सहयोग से महासभा को हर हाल में एकीकरण और मजबूर करने में सफलता मिलने की उम्मीद की जानी चाहिए। उन्होंने कहा कि कूर्मि समाज के विकास और मजबूती के लिए 126 वर्ष के सबसे पुराने अखिल भारतीय कूर्मि क्षत्रिय महासभा के दोनों गुटों में अविलम्ब एकीकरण होना बहुत आवश्यक है। सभा में हरियाणा के चौधरी सुरेन्द्र सिंह भोसले, जगवीर सिंह, छतीसगढ़ के प्रदेश अध्यक्ष डाॅ राजकुमार सिरमौर, प्रदेश महासचिव ललित बघेल, सत्येन्द्र सिंह, उत्तर प्रदेश के श्याम पटेल, महाराष्ट्र के आरएस कनौजिया ने प्रमुख रूप से विचार व्यक्त किये।
राष्ट्रीय मीडिया प्रभारी अखिल भारतीय कूर्मि क्षत्रिय महासभा 

Related posts

Leave a Comment