पेपरविफ ने साहित्यकारों की प्रतिभा को किया सम्मानित

निक्की शर्मा रश्मि/कुमार संदीप, शिक्षा वाहिनी समाचार पत्र।

आदर्श समाज के निर्माण व समाज में सकारात्मक विचारों रुपी प्रकाश से एक आदर्श महौल के निर्माण में साहित्यकार की भूमिका अहम होती है। साहित्यकार अपनी कलम के माध्यम से आदर्श समाज के निर्माण में एक बेहतर कार्य करता है इसमें तनिक भी संदेह नहीं है। साहित्यकारों के द्वारा किए जा रहे पुनीत कार्य की सराहना यदि शब्दों में करना चाहें तो शायद हम असफल ही होंगे उनके कार्य की सराहना करने में। साहित्य को समृद्ध करने में व विभिन्न भाषाओं के विकास प्रचार-प्रसार में कई साहित्यक मंच आज प्रयासरत हैं। उन्हीं साहित्यक मंचों में एक ऐसा साहित्यिक प्लेटफार्म आज उभरकर साहित्यकारों के समक्ष आया है, जिससे जुड़कर साहित्यकारों को आज अत्यंत हर्ष का अनुभव हो रहा है। जी हाँ! आज पेपरविफ साहित्यक प्लेटफार्म सभी के हित हेतु बेहतर कार्य कर रहा है।
विगत दिनों पेपरविफ मंच ने इस वर्ष का बड़ा साहित्यक अवार्ड महोत्सव आयोजित किया था। जिसका समापन हो चुका है। इस अवार्ड महोत्सव में विभिन्न श्रेणियों में विभिन्न साहित्यकारों को विजेता चुना गया। साहित्यकारों की प्रतिभा को सम्मानित करते हुए जिन साहित्यकारों को इस साहित्य अवार्ड महोत्सव में विजेता चुना गया है उन्हें सम्मान स्वरूप विजेता ट्राफी व सम्मान पत्र भेजा जाएगा। जिन साहित्यकारों को इस मंच ने सम्मानित किया है उन साहित्यकारों ने इस मंच का हृदय से शुक्रिया अदा करते हुए कहा है कि पेपरविफ मंच से जुड़ना व इस पावन मंच द्वारा सम्मानित होना परम् सौभाग्य की बात है हम साहित्यकारों के लिए।
जिन रचनाकारों को अलग-अलग श्रेणी हेतु विजेता घोषित किया गया उनके नाम हैं- सुषमा तिवारी, इंदु शाहिल, कुमार संदीप, निक्की शर्मा रश्मि, पूनम चौरे, बबिता कुशवाहा, शुभांगिनी शर्मा। पेपरविफ मंच ने इन साहित्यकारों को विजेता घोषित करने हेतु विभिन्न प्रांतों के काबिल-ए-तारीफ शख्सियतों को आमंत्रित किया था। जिन उम्दा शख्सियतों ने साहित्य जगत में लेखनी द्वारा कीर्तिमान यश स्थापित करने हेतु साहित्यकारों को विजेता घोषित किया उन शख्सियतों के नाम इस प्रकार हैं- चन्द्रकान्त रेडीकन, विक्रांत हतवलने, मानस गीरी, सुसमिता समीरा, विकास जैन, संदीप झा , देवेन्द्र पाण्डेय, अभिजीत सिंह राना एवं अनिता म.सी। साहित्यकारों का कहना है कि इन काबिलेतारीफ शख्सियतों द्वारा अपना नाम विजेता के रुप में सुनकर अच्छा लगा इसके लिए साहित्यकारों की ओर से पेपरविफ मंच का व इन तमाम शख्सियतों का दिल से आभार।
साहित्य को समृद्ध करने हेतु व साहित्यकारों की प्रतिभा को सम्मानित करने हेतु जब कोई मंच इस तरह का पावन कार्य करता तो सचमुच ऐसा लगता है कि इस व्यस्तता भरे जीवन में आज भी कुछ लोग ऐसे हैं जो समाज में कुछ बेहतर करने का प्रयास कर रहे हैं। पेपरविफ की मुख्य संचालिका वृंदा सिंह, मिथुन व संपूर्णा सिंह साहित्यकारों की प्रतिभा को सम्मानित करने हेतु व राइटर्स को एक बेहतर मंच देने हेतु बधाई की पात्र हैं।
मुम्बई, महाराष्ट्र 

Related posts

Leave a Comment