किसानों की समस्याओं समाधान करें सरकार, वरना आन्दोलन करेगी महासभा

कूर्मि कौशल किशोर आर्य, शिक्षा वाहिनी समाचार पत्र।

अखिल भारतीय कूर्मि क्षत्रिय महासभा के राष्ट्रीय मीडिया प्रभारी कूर्मि कौशल किशोर ने कहा है कि भारत के किसान पिछले कई वर्षों से कभी अनावृष्टि (सुखाड़) तो कभी अतिवृष्टि(बाढ़) के कारण विभिन्न समस्याओं से जूझ रहे हैं। एक तरफ आसाम, बंगाल को हर वर्ष चीन की नदी पानी छोड़कर बर्बाद कर देती है तो दूसरी तरफ बिहार को नेपाल की नदी बर्बाद कर देती है। वर्षों से यह सिलसिला लगातार चली आ रही है। केन्द्र में पिछले 74 वर्षों में विभिन्न राजनैतिक दलों की सरकार बनी पर किसानों की समस्या जस की तस बनी हुई है। जिसके कारण भारत के अन्नदाता हर महीने बैंकों और साहुकारों के कर्ज से परेशान होकर आत्महत्या तक करने के लिए विवश हो जाते हैं। पर तब भी हमारे देश की सरकार के कान पर जूँ तक नहीं रेंगती है। देश में कूर्मि समाज के लोग मूलतः कृषि कार्य से सदियों से जुड़े हुए हैं, कृषि ही उनका मुख्य पेशा है, ऐसे में भारत की सरकार परोक्ष या अपरोक्ष रूप से भारत में कूर्मि समाज के बंधुओं को हैरान परेशान करके उन्हें आत्महत्या तक करने के लिए बाध्य कर रही है। भारत के अन्नदाता विभिन्न अनाज, गन्ना, फसलों, सब्जियों, फलों और फूलों के उचित दाम नहीं मिलने से लगातार नुकसान उठाये और शासन-प्रशासन, सरकार, जनप्रतिनिधियों, नेताओं, नौकरशाहों के निकम्मेंपन से हैरान परेशान होकर आत्महत्या तक करने के लिए बाध्य हो जाए यह किसी भी सरकार के लिए बहुत शर्म की बात है। पर सरदार अपने अहंकार में किसानों की समस्याओं के समाधान करने के लिए उनके हितों पर बातचीत करने के तैयार भी नहीं होती है यह लोकतांत्रिक सरकार नहीं तानाशाही सरकार होने की प्रत्यक्ष प्रमाण है। अखिल भारतीय कूर्मि क्षत्रिय महासभा सरकार के द्वारा किये जा रहे किसान विरोधी और जनविरोधी कानून, कार्य का विरोध करती है और किसानों के उचित मांगों की समर्थन करती है।
         अखिल भारतीय कूर्मि क्षत्रिय महासभा के राष्ट्रीय मीडिया प्रभारी कूर्मि कौशल किशोर आर्य ने बताया कि किसानों की सभी मांगे मानने और सभी समस्याओं के अविलम्ब समाधान करने के लिए केन्द्र की मोदी सरकार उचित कदम  उठाये वरना मजबूरन अखिल भारतीय कूर्मि क्षत्रिय महासभा को देश के विभिन्न जिला मुख्यालय,राज्य मुख्यालय और देश की राजधानी दिल्ली में किसानों की मांगे के समर्थन में आन्दोलन करने के लिए बाध्य होना पड़ेगा। महासभा के द्वारा किये जाने वाले आन्दोलन और सरकार के द्वारा किये जाने वाले गैरजिम्मेदाराना व्यवहार से उत्पन्न  होने वाली सभी समस्याओं की जवाबदेही सरकार की होगी।
         महासभा के राष्ट्रीय मीडिया प्रभारी कूर्मि कौशल किशोर आर्य ने बताया कि किसानों की समस्त मांगें पर गम्भीरता पूर्वक विचार करने के लिए महासभा के राष्ट्रीय महासचिव आर एस कनौजिया ने भारत के माननीय राष्ट्रपति श्री रामनाथ कोविंद जी,माननीय प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी, माननीय गृहमंत्री श्री अमित शाह जी और माननीय कृषि मंत्री श्री नरेंद्र तोमर जी को पत्र लिखकर किसानों की मांगे मानने और सभी समस्याओं के अविलम्ब समाधान करने के लिए विनम्रता पूर्वक पत्र लिखा है। किसानों की समस्याओं के समाधान अविलंब नहीं करने पर पूरे देश में महासभा द्वारा आन्दोलन करने की चेतावनी दी है।
राष्ट्रीय मीडिया प्रभारी अखिल भारतीय कूर्मि क्षत्रिय महासभा 

Related posts

Leave a Comment