ये कैसा मकाम है

सलिल सरोज, शिक्षा वाहिनी समाचार पत्र।

रोशनी आप के  घर में गुलाम है
वर्ना अँधेरे में तो सारी आवाम है
बड़ा जोर है जिन्दगी का शहर में
पास जाके देखिए,सब नाकाम है
काम एक भी नहीं आती वक़्त पे
नहीं तो गिनाने को तन्त्र तमाम है
सवालों ने जब से लफ्ज़ खो दिए
कोर्ट- कचहरी सब को आराम है
सियासत से कोई उम्मीद ना कर
मेरे साथ तेरा भी  बुरा अंजाम है
अमावस में चाँद की चाह है तुम्हें
ये कैसा दर है, ये कैसा मकाम है
समिति अधिकारी लोक सभा सचिवालय, संसद भवन, नई दिल्ली

Related posts

Leave a Comment