युवा, संघर्षशील, ईमानदार, मुखर वक्ता, सामाजिक कार्यकर्ता एवं प्रख्यात शिक्षाविद हैं वाराणसी खंड स्नातक प्रत्याशी अरविंद सिंह पटेल

डॉ प्रवीण सिंह, शिक्षा वाहिनी समाचार पत्र।

युवा, संघर्षशील, ईमानदार, स्वच्छ चरित्र , दृढ़निश्चई, मुखर वक्ता, सामाजिक कार्यकर्ता एवं शिक्षाविद वाराणसी खंड स्नातक प्रत्याशी अरविंद सिंह पटेल के संघर्षों का इतिहास बहुत लम्बा है। वाराणसी जिले के ऐतिहासिक ग्राम शहंशाह पुर की मातृभूमि में पलबढ़-कर मिर्जापुर जिले के ऐतिहासिक कॉलेज श्री शिवाजी नेशनल इंटर कॉलेज हांसीपुर से इंटर की शिक्षा प्राप्त कर प्रयागराज की धरती पर कुलभास्कर आश्रम पोस्ट ग्रेजुएट कॉलेज प्रयागराज में बीएससी में प्रवेश लेकर अध्ययन करने के दौरान 1990 के दशक के प्रारंभ में अनेक सामाजिक आंदोलन से प्रभावित होकर आपने उस में सक्रिय भागीदारी निभाते हुए छात्र आंदोलन का नेतृत्व करते हुए छात्र राजनीति की ओर कदम बढ़ाए, परिणामतः 1995 में भारी बहुमत के साथ कुलभास्कर आश्रम पोस्ट ग्रेजुएट कॉलेज प्रयागराज के अध्यक्ष चुने गए।
इसी के साथ सामाजिक एवं राजनीतिक आंदोलन में अरविंद सिंह पटेल की सक्रियता और बढ़ गई। इसी बीच उन्होंने एमएससी गणित में मास्टर डिग्री एवं एलएलबी की शिक्षा प्राप्त की। इसके उपरांत अरविंद सिंह पटेल का चयन माध्यमिक शिक्षा सेवा चयन बोर्ड प्रयागराज से गणित प्राध्यापक के रूप में हो गया। अध्यापन कार्य करते हुए कांशीराम के मिशन से प्रभावित होकर बहुजन आंदोलन से जुड़कर अनेक राजनीतिक आंदोलनों एवं कार्यक्रमों में भाग लेते हुए सदैव अपनी राजनीतिक उपस्थिति दर्ज कराई। लोकसभा एवं विधानसभा के विभिन्न चुनाव में लड़ने वाले ईमानदार एवं स्वच्छ छवि के प्रत्याशियों के पक्ष में प्रदेश के अधिकांश जिलों में जाकर उनका प्रचार कार्य किया और उन्हें विजई बनाने में अपना योगदान दिया है।
अरविंद सिंह पटेल ने अन्ना आंदोलन के दौरान इंडिया अगेंस्ट करप्शन के बैनर तले धरना-प्रदर्शन, मशाल जुलूस एवं अनेकों कार्यक्रमों में भागीदारी निभाकर अपनी मजबूत उपस्थिति दर्ज कराई थी। भ्रष्टाचार, बेरोजगारी , निजीकरण , मानवाधिकार, राजनीतिक उत्पीड़न एवं अनेक मुद्दों पर इलाहाबाद विश्वविद्यालय, बीएचयू गेट पर होने वाले विभिन्न आंदोलनों, डीएलडब्लू रेलवे कर्मचारियों, बिजली विभाग के कर्मचारियों एवं किसानों के अनेक आंदोलनों में आपने अपनी भागीदारी निभाकर सदैव समाज एवं मानवहित में कार्य किया है। सामाजिक कार्यक्रमों एवं सभी के सुख-दुख में भागीदार बनकर सरलता की मिसाल पेश की है।
समय के साथ माध्यमिक शिक्षक संघ में भी संघर्ष के दौर की शुरुआत हुई, उसमें अरविंद सिंह पटेल ने अपनी भागीदारी सुनिश्चित कर माध्यमिक शिक्षक संघ को एक नई दिशा दी। वाराणसी जिले में 2006 में माध्यमिक शिक्षक संघ के गोपनीय चुनाव में अपने गुट से सिर्फ अरविंद सिंह पटेल अकेले जिला संयुक्त मंत्री के पद पर चुनाव जीते थे। इसी के साथ वाराणसी में माध्यमिक शिक्षक संघ में नई अलख जगी और चेत नारायण सिंह को 2008 एवं 2014 की विजय श्री दिलाने में अरविंद सिंह पटेल की भूमिका महत्वपूर्ण रही।
अरविंद सिंह पटेल ने 2014 में वाराणसी खंड स्नातक से अल्प समय के निर्णय पर चुनाव लड़ा और चौथे स्थान पर रहे, जबकि राजनीतिक पार्टी का प्रत्याशी पांचवें स्थान पर रहा था। अरविंद सिंह पटेल ने तभी से पुनः मन बना कर लगातार बिना आराम किए पिछले 6 वर्षों से वाराणसी खंड के आठों जिलों में भ्रमण कर जन संपर्क बनाए रखा है और अब निर्दल प्रत्याशी के रूप में ही चुनाव मैदान में हैं।
वाराणसी, उत्तर प्रदेश 

Related posts

Leave a Comment