कौन बनेगा करोड़पति में खेलने के बाद भी मोहित जायसवाल के घर का सपना अधूरा

डॉ.राजेश कुमार शर्मा पुरोहित, शिक्षा वाहिनी समाचार पत्र।

 राजस्थान राज्य के भवानीमंडी शहर के निवासी शिक्षक मोहित जायसवाल ने  मुम्बई में फ़िल्म जगत के महानायक अमिताभ बच्चन के कौन बनेगा करोड़पति शो में तीन लाख बीस हज़ार जीत कर कीर्तिमान स्थापित किया है। तभी से वे पूरे राज्य में चर्चित हो गए। उन्होंने भवानीमंडी से माया नगरी मुम्बई तक के सफरनामे की यात्रा को यूं बयां किया-
मैं मोहित कुमार जायसवाल, मेरा जन्म दिनांक 26-10-1991  व जन्म स्थान दिल्ली है। मेरे पिता दिनेश कुमार जायसवाल व माता मोहिनी देवी जायसवाल तथा पत्नी रितु मेवाड़ा जायसवाल हैं। मेरा बचपन बहुत ही संघर्षमय व्यतीत हुआ । मेरे परिवार की आर्थिक स्थिति  बहुत कमजोर थी । मेरे पिताजी का धार्मिक पुस्तकों का छोटा सा ठेला था । 6 वर्ष कि उम्र में ही मैं पिताजी के साथ सड़क पर फ़ोटो बेचने का कार्य करता था ,ताकि घर की आर्थिक स्थिति में सुधार हो सके और मेरी तथा मेरे भाई बहन की पढ़ाई अच्छे से हो सके।
 सन 2013 में शिक्षक भर्ती परीक्षा में आर्थिक स्थिति कमजोर होने की वजह से किताबे नही खरीद पाया और 2-3 नम्बर से रह गया फिर मेंने पापा  की दुकान के साथ- साथ स्कूल मे भी पढाना शुरू  किया । इससे मैं कुछ किताबें खरीद पाया और 2016 में मेरा शिक्षक भर्ती में चयन हो गया और मुझे बाड़मेर जिले के धोरीमन्ना पंचायत समिति का गांव खरड़िया मिला। जहाँ मुझे बहुत संघर्ष करना पड़ा यहाँ पर पानी की कमी, खारा पानी, बालू मिट्टी का उड़ना, अत्यधिक गर्मी, आंधी तूफान जैसी समस्याओं का सामना करना पड़ा, परन्तु मेने कभी हार नही मानी ।
सन 2010 से लगातार कौन बनेगा करोड़पति में चयन के लिए प्रयास करता रहा, परन्तु हर बार असफल रहा। सन 2020 में जाकर मुझे ईश्वर गुरूजनो व माता पिता की कृपा से कौन बनेगा करोड़पति में हॉट सीट पर जाने का मौका मिला। कौन बनेगा करोड़पति में लॉक डाउन में लगातार प्रयास किया और विभिन्न पड़ाव पार कर देश के महानायक अमिताभ बच्चन से मिलने का मौका मिला। कौन बनेगा करोड़पति की वजह से मेरा व मेरी मम्मी का हवाई जहाज से घूमने का सपना  पूरा हुआ। मेरे पास अपना मकान नही है। मैं चाहता था कि कौन बनेगा करोड़पति मैं जीतकर अपना मकान बनाऊँगा, परन्तु देश के महानायक अमिताभ बच्चन को अपने सामने देखकर नर्वस हो गया और कौन बनेगा करोड़पति केवल 3.20 लाख रूपये ही जीत पाया। जिसके कारण मेरे घर का सपना तो पूरा नही हो पाया, लेकिन कुछ आर्थिक स्थिति ठीक हो जाएगी। कौन बनेगा करोड़पति में मेरी सफलता के पीछे भगवान की कृपा, गुरूजनों का आशीर्वाद, माता पिता की मेहनत और ओर मेरी पत्नी का अटूट विश्वास था।
श्रीराम कॉलोनी भवानीमंडी, जिला झालावाड़, राजस्थान

Related posts

Leave a Comment