श्रीराम कालेज ऑफ़ फार्मेसी मे विश्व फार्मेसी सप्ताह आयोजित

शि.वा.ब्यूरो, मुजफ्फरनगर। श्रीराम कालेज ऑफ़ फार्मेसी मे विश्व फार्मेसी सप्ताह का आयोजन किया गया। जिसका मूल उददेश्य कोविड-19 के दौरान फार्मासिस्ट की मुख्य भूमिका पर केन्द्रित था। एक सप्ताह के इस कार्यक्रम में दिनाॅक 16 नबम्बर से 21 नबम्बर तक कई कार्यक्रमो जैसै निबन्ध प्रतियोगिता, प्रश्नोत्तरी प्रतियोगिता, पोस्टर प्रतियोगिता, सेमिनार एक्सपर्ट टाॅक आदि का आयोजन किया गया।
कार्यक्रम में मुख्य अतिथि निदेशक गोयल ग्रुप ऑफ़ इंस्टीटयूशंस लखनऊ डा0 आकाश वेद रहे। संस्थान मे आयोजित फार्मेसी सप्ताह में विद्यार्थियो के कला कौशल को परखने और प्रयोगात्मक ज्ञान देने के लिए फार्मासिस्ट-फ्रन्टलाइन हैल्थ प्रोफेशनल विषय पर निबन्ध एवं प्रश्नोत्तरी प्रतियोगिता आयोजित की गयी। इसके साथ ही विद्यार्थियों के लिए पोस्टर प्रस्तुतीकरण का भी आयोजन किया गया। जिसमे विद्यार्थियो ने बढ चढकर प्रतिभाग किया। निबन्ध प्रतियोगिता में प्रथम पुरूस्कार डी0फार्मा के छात्र शुभम शर्मा ने प्राप्त किया। जिसमे उन्होने फार्मासिस्ट की भूमिका के बारे मे प्रकाश डाला वहीं दूसरी ओर प्रश्नोत्तरी प्रतियोगिता मे प्रथम पुरूस्कार बी0फार्मा की छात्रा सृष्टि को दिया गया। पोस्टर प्रतियोगिता मेें अभिषेक पुंडीर तथा मनीष शर्मा ने बाजी मारी।


कार्यक्रम के मुख्य अतिथि डा0 आकाश वेद ने एक्सपर्ट टाॅक के अंतर्गत विद्यार्थियों को संबोधित करते हुए कहा कि जैसा कि हम जानते है इस साल की विश्व फार्मासिस्ट सप्ताह की थीम फार्मासिस्ट-फ्रन्टलाइन हैल्थ प्रोफेशनल है जिसका अर्थ है कि फार्मासिस्ट हमारे हैल्थ प्रोफेशन के पहली लाइन के योद्धा है। यह बात कोविड-19 के कारण लाॅकडाउन के दौरान भी साबित हो चुकी है जब फार्मासिस्ट ने डाक्टर एवं नर्स के साथ कंधे से कंधा मिलाकर कोविड-19 मरीजो की देखभाल की। श्रीराम कालेज ऑफ़ फार्मेसी के निदेशक डाॅ0 गिरेन्द्र कुमार गौतम ने कहा कि वर्तमान समय में फार्मेसी एक ऐसा क्षेत्र है जिसमे उपलब्ध असीम संभावनाओ के साथ युवा पीढी आगे बढ रही है तथा कोविड-19 के इस काल मे यह प्रोफेशन छात्रो को खूब लुभा रहा है।
सप्ताह भर चले इस कार्यक्रम का संचालन सहायक प्रवक्ता छवि गुप्ता ने किया तथा सभी शिक्षक श्वेता पुडिर, सोनू, टिंकू कुमार, रोहित मलिक, रोहिनी गुप्ता, विकास कुमार, अजय कुमार, सलमान, उज्जवल शर्मा, शिवम त्यागी, रवि कुमार, अमन सिहॅ, शफकत जैदी, साबिया परबीन आदि ने कार्यक्रम को सफल बनाने में महत्वपूर्ण योगदान दिया।

Related posts

Leave a Comment