डीएम सेल्वा कुमारी जयाराजन का आदेश: होटल, रेस्टोरेन्ट, वेल्डिंग की दुकान, वाहन व व्यवसायिक प्रतिष्ठानों में घरेलू एलपीजी सिलेण्डरों के दुरुपयोग की जांच करेंगे अधिकारी

शि.वा.ब्यूरो,  मुजफ्फरनगर। जिलाधिकारी सेल्वा कुमारी जयाराजन ने कहा कि घरेलू एलपीजी सिलेण्डरों की आपूर्ति में भारत सरकार द्वारा सब्सिडी प्रदान की जाती है। अतः ऑयल कम्पनियों के साथ-साथ जिला प्रशासन का भी यह दायित्व है कि घरेलू एलपीजी सिलेण्डरों का सम्यक वितरण सुनिश्चित कराया जाए। यह शिकायतें प्राप्त होती हैं कि कतिपय स्थलों पर घरेलू एलपीजी सिलेण्डरों का काॅमर्शियल उपयोग कर उनका दुरूपयोग किया जा रहा है, जो द्रवीकृत पैट्रोलियम गैस (प्रदाय और वितरण विनियम) आदेश-2000 का उल्लंघन है एवं आवश्यक वस्तु अधिनियम-1955 के अन्तर्गत दण्डनीय अपराध भी है। घरेलू एलपीजी सिलेण्डरों का नियमानुसार उपयोग सुनिश्चित कराने हेतु आयुक्त खाद्य एवं रसद विभाग उ0प्र0 के पत्र में विस्तृत दिशा-निर्देश जारी किये गये हैं। अतः आयुक्त खाद्य तथा रसद विभाग उ0प्र0 के निर्देेशों के क्रम में डीएम ने जनपद के समस्त उपजिलाधिकारीे, क्षेत्रीय खाद्य अधिकारी, पूर्ति निरीक्षकों को निर्देशित किया है कि वह अपने-अपने क्षेत्रान्तर्गत समस्त होटलों, रेस्टोरेन्टो, वेल्डिंग दुकानों, वाहनों एवं व्यवसायिक प्रतिष्ठानों में घरेलू एलपीजी सिलेण्डरों के दुरुपयोग की जांच करेंगे। इसके अतिरिक्त जिला पूर्ति अधिकारी सम्पूर्ण जनपद में समस्त होटलों, रेस्टोरेन्टों, वेल्डिंग दुकानों, वाहनों एवं व्यवसायिक प्रतिष्ठानों में घरेलू गैस के दुरुपयोग की जांच करेंगे। यदि कहीं किसी भी जगह घरेलू गैस के दुरूपयोग का कोई भी प्रकरण संज्ञान में आता है तो समस्त सम्बन्धित के विरुद्ध आवश्यक वस्तु अधिनियम-1955 की धारा 3/7 एवं आईपीसी की सुसंगत धाराओं के अन्तर्गत नियमानुसार अभियोग पंजीकृत कराने की कार्यवाही सुनिश्चित करायी जाये।

घरेलू एलपीजी सिलेण्डरों का नियमानुसार उपयोग सुनिश्चित कराने हेतु जांच के समय निम्नलिखित कार्यवाहियां अमल में लायी जायेंगी

1. यह सुनिश्चित किया जायेगा कि गैस एजेन्सियों द्वारा बुकिंग के क्रम में ही घरेलू एल0पी0जी0 सिलेण्डरों की आपूर्ति की जाए।
2. गैस एजेन्सियों पर आमद होने वाले लोड का सत्यापन कराया जाए तथा एजेन्सियों के स्टाॅक रजिस्टर में दर्ज सिलेण्डरों के सापेक्ष वितरित सिलेण्डरों का सत्यापन कराया जाए, यदि उनमें नियम विरुद्ध कोई तथ्य पाया जाए तो सुसंगत नियमों के अन्तर्गत कार्यवाही अमल में लायी जाए।
3. गैस एजेन्सियों द्वारा किये जा रहे घरेलू एलपीजी सिलेण्डरों के वितरण का रैण्डम सत्यापन किया जाए, जिसमें इस तथ्य का भी सत्यापन हो कि घरेलू एल0पी0जी0 सिलेण्डरों की निर्धारित मात्रा व मूल्य पर डिलीवरी सम्बन्धित एजेन्सी द्वारा की जा रही है अथवा नहीं।
4. बांट-माप निरीक्षक के साथ गैस एजेन्सियों पर विक्रय हेतु रखे गये सिलेण्डरों एवं हाॅकरों द्वारा होम डिलीवरी हेतु ले जाये जा रहे अथवा उपभोक्ताओं को डिलीवरी किये जा रहे सिलेण्डरों की जांच भी की जाए।
5. जांच में यह भी सुनिश्चित किया जाए कि डिलीवरी हेतु एजेन्सियों पर उपलब्ध सिलेण्डरों तथा हाॅकरों द्वारा होम डिलीवरी हेतु ले जाये जा रहे सिलेण्डरों की सील Intact है अथवा नहीं।
6. होटलों, रेस्टोरेन्टों, वेल्डिंग दुकानों एवं वाहनों आदि में घरेलू एलपीजी सिलेण्डरों के दुरुपयोग रोकने हेतु प्रभावी कार्यवाही अमल में लायी जाए, जिसमें घरेलू एलपीजी सिलेण्डरों का दुरुपयोग करने वाले एवं काॅमर्शियल उपयोग हेतु उक्त सिलेण्डरों की आपूर्ति करने वाले एजेन्सी, हाॅकरों के विरुद्ध भी नियम संगत कार्यवाही सुनिश्चित की जाए। उन्होने कहा कि उपरोक्त आदेशों का कडाई से अनुपालन सुनिश्चित किया जाए तथा कृत कार्यवाही की आख्या उपलब्ध कराई जाये। यह अभियान सतत् रूप से चलाया जाये। जिससे घरेलू गैस सिलेण्डरों के दुरुपयोग को रोका जा सके।

Related posts

Leave a Comment